Home Blog

हिंदी भाषा का हमारे जीवन में महत्व

0
Hindi Language

हिंदी हमारे जीवन में अत्यधिक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है आज के आधुनिक संसार में ऐसा कोई भी देश बचा नहीं होगा जहां हिंदी भाषा का उपयोग नहीं किया जाता होगा हिंदी भाषा हमारी संस्कति को अत्यधिक बढ़ावा देती है।

हिंदी हमारे हिन्दुस्तान की पहेचान है यह हमारी राष्ट्रीय भाषा के रूप में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है इसलिए हिंदी हमारे लिए बहुत प्यारी है तथा बहुत महत्वपूर्ण है हिंदी भाषा वो है जिसे हमारी मां बोलती हैं हमारे पूर्वज बोलते थे हिंदी के द्वारा ही अन्य भाषाएं जैसे तेलुगू कन्नड़ तमिल गुजराती उर्दू इत्यादि का जन्म हुआ।

जैसा कि हम जानते हैं कि भारत में अनेक भाषाएं बोली जाती है परन्तु वह हिंदी भाषा ही है जिनसे पूरे भारत को जोड़कर रखा है हिंदी हमारी राष्ट्रीय भाषा के रूप में महत्व पूर्ण भूमिका निभाती है।

हमे हमारी हिंदी पर गर्व होना चाहिए हिंदी भाषा हमारे जीवन में बहुत महत्व पूर्ण है हिंदी भारत में ही नहीं बल्कि अन्य देशों में भी अध्ययन अध्यापन और अनुसंधान कि भाषा बन चुकी है अमेरिका के ही 30 से भी ज्यादा विश्वविद्यालयों में भाषायी पाठ्यक्रमों में हिन्दी को महत्वपूर्ण दर्जा मिला हुआ है हिंदी का महत्व अत्यधिक है।

हिंदी हमारे लिए बहुत अनमोल है हिंदी हिन्दुस्तान कि शान है हिंदी बहुत ही सरल और सुलभ भाषा है इसको आसानी से समझा और बोला जाता है। इस दुनिया में हिंदी भाषा, बोलने, समझने, चाहने वाले अनगिनत लोग है हिंदी का जितना महत्व समझाया जाए कम है।

हिंदी हमारे समाज का महत्त्वपूर्ण अंग है आजकल लोग हिंदी को अत्यधिक महत्व नहीं देते जबकि हिंदी हमारी राष्ट्रीय भाषा है इसलिए हमें उसको अत्यधिक महत्व देना चाहिए आजकल देखो लोगों को तो हिंदी को पीछे छोड़ अंग्रेजी के पीछे भागते हैं।

मानती हूं कि अंग्रेजी अंतर्राष्ट्रीय भाषा है जो एक देश से दूसरे देश को जोड़ने का कार्य करती है पर इसका मतलब यह नहीं कि अंतरराष्ट्रीय भाषा के चक्कर में राष्ट्रीय भाषा को ठुकराया जाए आजकल लोग हमारी संस्कृति तथा हमारी भाषा को अपनाते हैं तथा अमेरिका जैसे आने देशों के लोग हिंदी सीखना पसंद करते हैं।

परंतु अगर हमारे देश के ही लोग हिंदी को अत्यधिक महत्व नहीं देंगे तो हमारी राष्ट्रीय भाषा का कोई महत्व नहीं मिलेगा हिंदी हमारी जीवन में अत्यधिक महत्वपूर्ण है हिंदी का महत्व बहुत ही अधिक है।

"हिंदी है जीवन का आधार 
             हिंदी के बिना हिन्दुस्तान बेकार"                                     

IPL का Full From क्या है पूरी जानकारी

0
IPL ka full form

चौके छक्के, शानदार पारियां, झूमती हुई जनता, बेमिसाल मनोरंजन और ग्लैमर से भरा हुआ खेल यही पहचान है IPL की। IPL शुरुआत से ही लोगों का पसंदीदा खेल बना हुआ है। जब यह शुरू होने वाला होता है तो लोग अपना सारा काम मैच शुरू होने से पहले ही खत्म कर देते हैं। IPL अप्रैल और मई के महीने में हर साल आयोजित किया जाता है। अगर आप क्रिकेट के प्रसंसक हैं तो जरूर खेल से वाकिफ़ होंगे।

IPL क्या है?

IPL विश्व क्रिकेट के T-20 फॉर्मेट का सबसे बड़ा टूर्नामेंट है। इसका पूरा नाम इंडियन क्रिकेट लीग है। जिसे संक्षेप में IPL कहते हैं। इसकी शुरुआत 2008 में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के तत्कालिक अध्यक्ष ललित मोदी के नेतृत्व में हुई थी।

IPL का इतिहास

दरअसल 2007 में सबसे पहले ज़ी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज ने ICL यानी इंडियन क्रिकेट लीग के नाम से T20 लीग की शुरुआत की थी, लेकिन इसे मान्यता नहीं दी और इस में खेलने वाले खिलाड़ियों को भी प्रतिबंधित करने की चेतावनी तक दी गई। बहरहाल 2017 में बीसीसीआई ने फ्रेंचाइजी पर आधारित IPL की घोषणा की। सबसे पहले फ्रेंचाइजी के द्वारा 8 शहरों की टीम पर बोली लगाई गई, जीसके तहत बेंगलुरु, चेन्नई, दिल्ली, हैदराबाद, जयपुर, कोलकाता, मोहाली और मुंबई की टीम को खरीदा गया। टीम की बोली लगने के बाद खिलाड़ियों की बोली लगाई गई और हर टीम ने अपने अपने पसंद के हिसाब से खिलाड़ियों को खरीदा। सारी प्रक्रिया खत्म होने के बाद 8 टीमों को अपना जलवा दिखाने का मौका मिला।

IPL कि शुरुआत

पहला सीजन 2008 –:

IPL का पहला सीज़न। 18 अप्रैल 2008 से शुरू हुआ और इसके साथ ही क्रिकेट में नए युग की शुरुआत हो गई। आईपीएल का पहला सीज़न बहुत ही सफल रहा। इसकी सफलता का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि पहले सीज़न में कुल 34,22,000 लोगों ने स्टेडियम में जाकर मैच देखा। यह भारतीय क्रिकेट के इतिहास का सबसे बड़ा टूर्नामेंट बन गया जिसमें इतनी बड़ी संख्या में दर्शकों ने स्टेडियम में जाकर मैच देखा। 

राजस्थान रॉयल्स ने पहले सीजन का ख़िताब अपने नाम किया। इस सीज़न में ऑस्ट्रेलिया के शॉन मार्श ने 616 रन बनाए और पूरे टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी रहे। वहीं पाकिस्तानी क्रिकेटर सोहेल तनवीर सबसे ज्यादा 22 विकेट लेकर सबसे सफल गेंदबाज रहे।

दूसरा सीजन 2009 -:

2009 में यह लीग भारत के बजाय विदेशी जमीन पर साउथ अफ्रीका में कराया गया। आईपीएल के दूसरे सीज़न को देक्कन चार्जर ने जीता। इस टूर्नामेंट को टीवी पर लगभग 200 मिलियन लोगों ने देखकर एक बहुत बड़ा रिकॉर्ड बनाया। इस सीज़न में मैथ्यू हेडन 572 रन बनाकर सबसे सफलतम बल्लेबाज रहे वहीं आर.पी. सिंह 23 विकेट के साथ सफलतम गेंदबाज रहे।

तीसरा सीजन 2010 -:

आईपीएल का तीसरा सीज़न वापस से भारत में आयोजित किया गया। इस सीज़न को चेन्नई सुपर किंग्स ने जीता। इस टूर्नामेंट को पहली बार यू ट्यूब पर लाइव दिखाया गया। इस सीजन के अंतिम के कुछ मैचों को थिएटर में भी दिखाया गया, लोगों ने इसे बहुत पसंद किया और यह योजना भी पूरी तरह कामयाब रहा। इस पूरे टूर्नामेंट में सचिन तेन्दुलकर 616 रन बनाकर टूर्नामेंट के सबसे कामयाब बल्लेबाज रहे, वहीं प्रज्ञान ओझा 21 विकेट के साथ सबसे सफल गेंदबाज साबित हुए।

चौथा सीजन 2011 -:

इस सीज़न को चेन्नई सुपरकिंग्स से लगातार दूसरी बार जीतकर खिताब अपने नाम किया है। इस सीज़न में दो नई टीम पूणे वारियर्स इंडिया औऱ कोच्चि टस्कर्स शामिल हुई और टीमों कुल संख्या 10 पहुँच गई। क्रिस गेल 608 रन बनाकर सबसे सफल बल्लेबाज रहे, वहीं लसिथ मलिंगा 28 विकेट के साथ सबसे कामयाब गेंदबाज रहे।

पाँचवा सीजन 2012 -:

पांचवें सीज़न में कोच्ची को सस्पेंड कर दिया गया, जिससे टीमों की संख्या नौ रह गयी। इस सीज़न कोलकाता नाइट राइडर्स ने खिताब अपने नाम किया। क्रिस गेल 733 रन बनाकर टूर्नामेंट के सबसे कामयाब बल्लेबाज रहे, वहीं मोर्ने मोर्केल 25  विकेट के साथ सबसे सफल गेंदबाज रहे।

छठा सीजन 2013 -:

2013 के छठे सीज़न को मुंबई इंडियंस ने खिताब जीता। इस साल डेक्कन चार्जर्स को भी सस्पेंड कर दिया गया। और सनराइजर्स हैदराबाद को इसके जगह पर खेलने का मौका मिला। इस साल माइक हँसी 733 रन बनाकर सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज रहे। वहीं ड्वेन ब्रेवो 33 विकेट के साथ सबसे कामयाब गेंदबाज रहे।

सातवाँ सीजन 2014 -:

आईपीएल के सातवें सीज़न में पुणे वॉरियर्स को निष्कासन झेलना पड़ा और दुबारा टीमों की कुल संख्या आठ हो गई। इस बार कोलकाता नाइट राइडर्स ने खिताबी बाजी मारी। रोबिन उथप्पा 660 रन बनाकर सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज रहे। वहीं मोहित शर्मा 23 विकेट के साथ टॉप गेंदबाज रहें।

आठवाँ सीजन 2015 -:

आईपीएल के आठवें सीज़न का विजेता मुंबई इंडियंस रहा। इस सीज़न डेविड वार्नर ने सबसे ज्यादा 562 रन बनाए और ड्वेन ब्रेवो 26 विकेट के साथ सबसे कामयाब गेंदबाज रहे।

नौंवा सीजन 2016 -:

आईपीएल का नौवां सीज़न राजस्थान और चेन्नई के लिए बुरा साबित हुआ, मैच फिक्सिंग के कारण। इन दोनों टीमों को 2 साल तक प्रतिबंधित प्रतिबंध का सामना करना पड़ा। इनकी जगह गुजरात लायंस और पुणे सुपरजाइंट्स को आईपीएल खेलने का मौका मिला। इस सीज़न को सनराइजर्स सनराइजर्स हैदराबाद ने अपने नाम किया। विराट कोहली 973 रन बनाकर सबसे सफलतम बल्लेबाज रहे। वहीं भुवनेश्वर कुमार 23 विकेट के साथ कामयाब गेंदबाज रहे।

दसवाँ सीजन 2017-:

IPL के दसवें सीज़न को मुंबई इंडियंस ने अपने नाम करके तीसरी बार खिताब जीता। इस सीज़न डेविड वार्नर सबसे ज्यादा 641 रन बनाने वाले बल्लेबाज रहे, वहीं भुवनेश्वर कुमार 26 विकेट के साथ पर्पल कैप के हकदार बने।

ग्यारहवां सीजन 2018 -:

प्रतिबंध खत्म कर लौटकर आई चेन्नई सुपरकिंग्स ने IPL के 11 वें सीज़न को शानदार तरीके से जीता। केन विलियमसन 735 रन के साथ सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज रहे। वहीं एंड्रू टे 24 विकेट के साथ सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज रहे।

बारहवाँ सीजन 2019 -:

आईपीएल का 12 वां सीज़न मुंबई इंडियंस ने जीता। इस सीज़न डेविड वार्नर ने 692 रन बनाकर सर्वाधिक सफल बल्लेबाज रहे, वहीं इमरान ताहिर 26 विकेट के साथ। कामयाब गेंदबाज रहे।

तेरहवाँ सीजन 2020 -:

आईपीएल के 13 वें सीज़न को फिर मुंबई इंडियंस ने जीता। लोकेश राहुल पर्पल कैप 670 रन बनाकर सबसे सफल बल्लेबाज रहे, वहीं केगिसो रबाडा 30 विकेट के साथ सबसे सफल गेंदबाज रहे। 

IPL कि कुछ रोचक जानकारीयाँ

पर्पल कैप –:   IPL के प्रत्येक सीज़न में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज को पर्पल कैप दिया जाता है।

ऑरेंज कैप-:IPL के हर सीज़न सर्वाधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी को ऑरेंज कैप दिया जाता है।

पहला शतक -: 2008 के पहले सीजन में ब्रेंडम मैकुलम ने कलकत्ता नाईट राइडर्स के तरफ से पहला शतक बनाया था।

IPL के एक सीजन में सर्वाधिक रन -: IPL के नौवें सीजन 2016 में विराट कोहली ने सबसे ज्यादा 973 रन बनाकर एक सीजन में सर्वाधिक रन बनाने का रिकॉर्ड बनाया। जो अब तक नहीं टूटा।

IPL के एक सीजन में सर्वाधिक विकेट -:IPL के छठे सीजन 2013 में ड्वेन ब्रेवो 33 विकेट लिए जो जब तक के किसी भी IPL सीजन का सर्वाधिक विकेट है। 

IPL  क्रिकेट के साथ ग्लैमर

IPL में क्रिकेट के साथ ग्लैमर का तड़का आसानी से देखा जा सकता है। आप कई बार फिल्मी हस्तियों, कॉरपोरेट जगत,  फ़ैशन, गायक, राजनीतिक हस्ती, कॉमेडियन से जुड़े हस्तियों को IPL के मैच का आनंद लेते हुए स्टेडियम में देख सकते हैं। इससे IPL कि प्रसिद्धि में चार चांद लग जाते हैं।

भारतीय प्रतिभाओं को मिलता अवसर

चुकि भारत मे क्रिकेट एक प्रसिद्ध खेल है, जहाँ बड़ी संख्या में युवा अपना कैरियर इस क्षेत्र में देखते हैं। IPL उन्ही प्रतिभाओं को एक प्लेटफार्म देता है, औऱ चयनित युवाओं को अंतरास्ट्रीय खिलाड़ियों के साथ खेलने का मौका भी देती है। IPL मव अच्छा प्रदर्शन करने वाले कई घरेलू खिलाड़ियों को भारतीय टाइम में खेल का मौका भी मिल जाता है।

खिलाड़ियों पर होती पैसों कि बारिश 

IPL कि टीमें अपने खिलाड़ियों पर बेशूमार दौलत खर्च करती है। यही कारण है कि विदेशी खिलाड़ी भी अन्य टूर्नामेंटों से ज्यादा तरज़ीह IPL को देतें हैं। इस टूर्नामेंट में खेलने वाले खिलाड़ियों को फेंचाइजी कि तरफ से एक सीजन में करोड़ो रूपये मिलते हैं।

IPL के सबसे महंगे खिलाड़ी -:  दक्षिण अफ्रीकी ऑलराउंडर क्रिस मॉरिस आईपीएल इतिहास के सबसे महंगे खिलाड़ी हैं। 14वें सीजन की नीलामी के दौरान राजस्थान रॉयल्स ने 16.25 करोड़ रुपए में मॉरिस को अपने स्क्वाड में शामिल किया था।

IPL से टीम मालिकों को होती मोटी कमाई 

इस खेल से टीम मलिकों कि कमाई में भी भारी इज़ाफ़ा होता है। प्रसारण का अधिकार जिस चैनल को मिलता है, उसके लिए वह काफी धनराशि जमा करती है। वहीं स्पॉन्सरशिप और प्रमोशनल ऐड से भी आयोजकों को काफ़ी राशि प्राप्त होती है।

कुल मिलाकर देखा जाए तो IPL  न सिर्फ भारत का खेल रह गया है बल्कि यह एक सफल इंटरनेशनल टूर्नामेंट के रूप में उभरा है। इसकी सफलता का आकलन आप इस बात से लगा सकते हैं कि यह विश्व का छठा सबसे बड़ा और भारत का सबसे बड़ा टूर्नामेंट बन गया है। इसकी चकाचौंध दर्शकों का भरपूर मनोरंजन करतीं है। इसकी सफलता दिनों दिन बढ़ती ही जा रही है। आने वाले समय में यह निश्चित हीं नयी बुलंदियों को छुएगी

भारत की जनसँख्या की जानकारी 2021

0
bharat ki jansankhya

हमारा देश नित नए प्रगति के रास्ते खोज रहा है ऐसे में इस महान देश की जनसंख्यिकीय परिस्थितियों का आकलन करना भी अनिवार्य हो जाता हैभारत जैसे विशाल भूभाग पर जनसांख्यिकी बहुलता होना स्वाभाविक है 32,87,263 वर्ग किलोमीटर यानी दुनियां के सातवे सबसे बड़े देश जिसकी औसत जनसंख्या वृध्दि दर 17.2 प्रतिशत है की जनगणना करना कोई सरल कार्य नही है।

उसके बाद भी भारत की जनसंख्या का आंकलन किया जाता है वर्तमान समय में 2021 में भारत की 16वीं जनगणना कोरोना महामारी के कारणवश स्थगित है जिस पर अभी केंद्र सरकार की ओर से गाइड लाइन आना अभी बांकी है लेकिन हम आपको जनसंख्या को लेकर जारी कुछ दूसरे आंकड़े दिखाने जा रहे हैं।

भारत की जनसंख्या 2021

कुछ प्रतिष्ठित संगठन जनसंख्या की सटीक जानकारी देते हैं जिनमे कुछ इस प्रकार हैं

(1)World bank
(2)भारतीय जनगणना आयोग
(3)UN द्वारा संचालित Worldometer नाम की वेबसाइट

चुकी भारतीय जनगणना आयोग कोरोना महामारी के कारणवश जनसंख्या से जुड़े सटीक आंकड़े एकत्र नही कर पाई है इसलिए world bank और UN (United Nations) के आंकड़े महत्वपूर्ण हो जाते हैं फिलहाल 1.44 बिलियन के साथ जनसंख्या में चीन नंबर वन पर है और भारत दूसरे नंबर पर जिसकी औसतन जनसंख्या वर्ड बैंक के आंकड़ों के मुताबिक 136.64 करोड़ (लगभग1.36बिलियन) है।

अगर हम यूनाइटेड नेशंस की ओर से जारी आंकड़ों की बात करें तो भारत की जनसंख्या 139.288 करोड़(1.39बिलियन)है इन आंकड़ों से साफ पता चलता है कि भारत कुछ ही वर्षों में जनसंख्या की दृष्टि से चीन को पछाड़ कर पहले स्थान पर आ जाएगा।

इसके साथ ही आपको पता होगा कि 2011 की जनगणना में भारत की जनसंख्या 121.25करोड़(1.21 बिलियन)थी मौजूदा समय में भारत दुनिया की कुल 2.4 प्रतिशत भूमि पर 17 प्रतिशत जनसंख्या का वहन कर रहा है जो एक चिंता का विषय भी है।

भारत की राज्यावार जनसंख्या

चुकी 2021 में राज्यवार जनगणना नही हुई है इसलिए हम 2011 की राज्यवार जनसंख्या सूची के आंकड़े दिखा रहे हैं।

(01) उत्तर प्रदेश 19,95,81,476(कुल जनसंख्या का 16.49%)
(02) महाराष्ट्र 11,23,72,972 (कुल जनसंख्या का 9.28%)
(03) बिहार 10,38,04,637 (8.58%)
(04) पश्चिम बंगाल 9,13,47,736 (7.55%)
(05) मध्य प्रदेश 7,25,97,565 (6.00%)
(06)तमिलनाडु 7,21,38,958 (5.96%)
(07) राजस्थान 6,86,21,012 (5.67%)
(08) कर्नाटक 6,11,30,704 (5.05%)
(09)गुजरात 6,03,83,628(5.00%)
(10)आंध्र प्रदेश 49,386,799 (4.08%)
(11)उड़ीसा 4,19,47,358 (3.47%)
(12)तेलंगाना 3,52,86,757 (2.97%)
(13)केरल 3,33,87,677 (2.76%)
(14)झारखंड 3,29,88,134 (2.72%)
(15)असम 3,11,69,272 (2.58%)
(16)पंजाब 2,77,04,236 (2.30%)
(17)छत्तीसगढ़ 2,55,40,196 (2.11%)
(18)हरियाणा 2,53,53,081 (2.09%)
(19)जम्मू और कश्मीर 1,25,48,926 (1.04%)
(20)उत्तराखण्ड 1,01,16,752 (0.84%)
(21)हिमाचल प्रदेश 68,56,509 (0.57%)
(22)त्रिपुरा 36,71,032 (0.30%)
(23)मेघालय 29,64,007 (0.24%)
(24)मणिपुर 27,21,756 (0.22%)
(25)नागालैण्ड 19,80,602 (0.16%)
(26)गोआ 14,57,723 (0.12%)
(27)अरुणाचल प्रदेश 13,82,611 (0.11%)
(28)मिज़ोरम 10,91,014 (0.09%)
(29)सिक्किम 6,07,688 (0.05%)

NCT दिल्ली 1,67,53,235(1.38%)

(के॰प्र॰ क्षेत्र 1) पुदुच्चेरी 12,44,464 (0.10%)
(के॰प्र॰ क्षेत्र 2) चंडीगढ़ 10,54,686(0.09%)
(के॰प्र॰ क्षेत्र 3) अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह 3,79,944 (0.03%)
(के॰प्र॰ क्षेत्र 4)दादर और नागर हवेली 3,42,855(0.03%)
(के॰प्र॰ क्षेत्र 5) दमन और दीव 2,42,911 (0.02%)
(के॰प्र॰ क्षेत्र 6) लक्षद्वीप 64,429 (0.01%)

सबसे ज्यादा जनसंख्या वाले शहर(2011 जनगणना के अनुसार)

(1)मुंबई 1,24,42,373
(2)दिल्ली 1,10,07,835
(3)बंगलौर 84,36,675
(4)हैदराबाद 68,09,970
(5)अहमदाबाद 55,70,585

>PUBG Mobile इंडिया में डाउनलोड कैसे करे

>Sbi Credit Card बंद कैसे करे जानकारी

>T Series का मालिक कौन है

>2 अगस्त को क्या है

>3 अगस्त को क्या है

जनगणना की शुरुआत

भारत में पहली जनगणना ब्रिटिश शासनकाल में सन 1881 में हुई तब से हर 10 वर्ष में भारत में जनगणना होती है 1881 से अब तक भारत में 15 बार जनगणना हो चुकी है।

1872 में ब्रिटिश वायसराय लॉर्ड मेयो के अधीन पहली बार जनगणना कराई गयी थी परंतु संपूर्ण भारत(ब्रिटिश सरकार के अधीन मौजूदा भारत,पाकिस्तान,बांग्ला देश,श्रीलंका,म्यांमार) की जनगणना 1881 में हुई थी उसके बाद ब्रिटिश सरकार द्वारा यह हर 10 वर्ष में कराई जाने लगी।

आजादी के बाद से यह भारत सरकार के गृह मंत्रालय के अधीन भारत के जनगणना आयुक्त द्वारा कराई जाती है 1951 के बाद की सभी जनगणनाएं 1948 की जनगणना अधिनियम के तहत कराई जाती हैं।

अंतिम जनगणना 2011 में कराई गई थी तथा आगामी जनगणना 2021 में कराई जाने वाली है जो अभी कोरोना महामारी के कारणवश स्थगित है यहां ध्यान देने वाली बात है की आजाद भारत की प्रथम जनगणना 1951 में हुई थी।

जनसंख्या से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य

1- भारतीय जनसंख्या की वार्षिक वृद्धि दर 0.99%है जिसके अनुसार भारत जल्द ही जनसंख्या में चीन को पछाड़ देगा।यह देखा जाना अनिवार्य है की चीन की जनसंख्या वृद्धि दर शून्य है।

2- अधिक जनसंख्या के कारण संसाधनों के नियोजन में दुष्कर परिणाम देखने को मिलते हैं।भोजन से लेकर आवश्यक सामग्रीयों में भारी कमी देखी जा सकती है।जिससे भुखमरी और गरीबी बढ़ती है।

3- भारत एक विकासशील देश है जो प्रगति के रास्ते पर चल रहा है।ऐसे में अत्यधिक जनसंख्या को संभाल पाना मुश्किल है।

4- पिछले दशकों के मुकाबले भारत की वृद्धि दर में काफी कमी देखी गई है।38% की वृद्धि दर अब 17%में आ गई है जिससे पता चलता है कि भारतीय लोगों में जागरूकता आ रही है।

5- UN के आंकड़ों के अनुसार भारत के लोगों की औसत आयु 28 वर्ष है।यह एक चिंताजनक आंकड़ा है।

6- भारत की नवीनतम जनसंख्या आंकड़ों के अनुसार प्रति वर्ग किलोमीटर मे 464 लोगों का जनसंखिकीय घनत्व है।

दूसरे देशों की जनसंख्या संक्षेप में

चीन 144करोड़
पाकिस्तान 21.66करोड़
बंगला देश 16.3करोड़
अफगानिस्तान 3.8करोड़
नेपाल 2.86 करोड़
भूटान 7.63लाख
म्यांमार 5.4करोड़
श्री लंका 2.18 करोड़

राजस्थान की जनसँख्या की जानकारी 2021

0
Rajasthan ki Jankari

आज हम राजस्थान के बारे में सम्पूर्ण जानकारी आपको बहुत सरल शब्दों में बताने जा रहे है हमारी कोशिश है की हम आपको राजस्थान के बारे में पूरी जानकारी प्रदान कराये। राजस्थान अपने आप में बहुत से विधावो, कला, संस्कृति, अनुपम एवं मनोरम नज़ारों से परिपूर्ण है जिसके कारण राजस्थान पर्यटक के रूप में बहुत विघ्यात है राजस्थान गर्म प्रदेश के रूम में भी जाना जाता है।

राजस्थान का शाब्दिक अर्थ – राजावो का स्थान, यहाँ पर बहुत ही बड़े – बड़े और सुर वीर राजावो ने जन्म लिया है और अपना राज्य बहुत लम्बे समय तक चलाया है।

राजस्थान भारत के राज्यों में चेत्रफल की दृष्टिकोण से सबसे बड़ा राज्य है राज्य का क्षेत्रफल 3,42,239 वर्ग कि॰मी॰ (132139 वर्ग मील) है यहाँ की मुख्य भाषा राजस्थानी है जिसका एक रूप हम आपको बता दे – पधारो मारो देश रे हमेशा आपको कही न कही पड़ने को मिल जाएगा।

राजस्थान का पहनावा भी बहुत ही सुंदर है जो लोगों को आकर्षित करती है राजस्थान का केवलादेव राष्ट्रीय उधान को सन 1885 में यूनेस्को द्वारा विस्व धरोहर के रूप में स्थान मिला है जोकि भारत के लिए बहुत ही गौरव की बात है।

राजस्थान के ज़िले के विषय में 

राजस्थान में वर्तमान जिलों की संख्या 33 है सभी ज़िलों के बारे में बताने के पूर्व की स्थिति से अवगत हों जाते है जिससे समझने में आसानी हो उसके बाद एक एक कर सभी जिलों का विस्तार पूर्वक समझेंगे :-

भारत की आज़ादी के समय राजस्थान में 25 ज़िले हुआ करता था जब भारत का एकीकरण किया गया तो एक नवंबर 1956 को एक नए ज़िले के रूप में अजमेर को बनाया गया।

जिलों के नाम –

  1. जयपुर
  2. अलवर 
  3. उदयपुर 
  4. करौली
  5. कोटा 
  6. गंगानगर
  7. चितौड़गढ़ 
  8. चुरू
  9. अजमेर 
  10. जालोर
  11. जैसलमेर
  12. जोधपुर
  13. झालावाड़
  14. झुंझुनूं 
  15. टोंक
  16. डूंगरपुर
  17. दौसा 
  18. धौलपुर 
  19. नागौर पाली 
  20. प्रतापगढ़
  21. बरन
  22. बांसवाड़ा
  23. बाड़मेर
  24. बीकानेर
  25. बूंदी
  26. भरतपुर
  27. भीलवाड़ा
  28. राजसमंद
  29. सवाई माधोपुर
  30. सिरोही
  31. सीकर 
  32. हनुमानगढ़

जयपुर – जयपुर अपनी समृद्ध भवन निर्माण-परंपरा, सरस-संस्कृति और ऐतिहासिक महत्व के लिए बहुत ही प्रसिद्ध है जयपुर की स्थापना आमेर के महाराजा सवाई जयसिंह ने करवाई थी जयपुर का पुराना नाम जयनगर था जिसे बाद में बदलकर जयपुर किया गया।

जयपुर राजस्थान का सबसे बड़ा शहर है और यह राजस्थान की राजधानी भी है जोकि सन 1956 को बनाया गया जयपुर भारत के टूरिस्ट सर्किट गोल्डन ट्रायंगल का हिस्सा भी है जयपुर का क्षेत्रफल 3,42,239 वर्ग कि॰मी॰ (132139 वर्ग मील) हैं।

जयपुर को भारत का पेरिस भी कहा जाता है इस शहर के वास्तु के बारे में कहा जाता है कि शहर को सूत से नाप लीजिये नाप-जोख में एक बाल के बराबर भी फ़र्क नहीं होता है। केवलादेव राष्ट्र उद्यान जिसके बारे में हमने आपको बताया है वह जयपुर राज्य में ही स्थित है।

इंग्लैंड की महारानी एलिजाबेथ प्रिंस ऑफ वेल्स Prince अल्बर्ट के स्वागत के लिए पूरे जयपुर शहर को गुलाबी रंग से रंगवा दिया था उसी दिन जयपुर को गुलाबी नगर के नाम से भी जाना जाने लगा।

सन 2011 के जनगढ़ना के अनुसार जयपुर की जनसंख्या 6626178 थी लिंगानुपात के बारे में समझे तो प्रति पुरूष के अपेक्षा स्त्रियों की संख्या से है जयपुर का लिंगानुपात 961 है वर्तमान जनसंख्या “ 7685041” आंकी गई है जयपुर में लगभग 86.1 प्रतिशत लोग शिक्षित है वर्तमान में जयपुर में जनसंख्या वृद्धि दर लगभग 2.54 प्रतिशत आंकी गई है ।

अलवर ज़िला – अलवर ज़िला राजधानी जयपुर से 170 की . मी. की दूरी में स्थित है यह ज़िला अरावली पहाड़ी के मध्य में बसा है ज़िले का क्षेत्रफल 8380 प्रति वर्ग की.मी. फैला हुआ है जिसकी आकृति चौकोर है ज़िले से 150 की. मी. की दूरी में मथुरा , वृन्धवान , गोवर्धन स्थित है।

जिसके कारण यहाँ की बोली में कुछ अंतर देखने को मिलता है पूर्व में ब्रिजभाषा, पश्चिम में मारवाड़ी, उत्तर में मेवाती एवं दक्षिण में ठूठारी बोली का परचलन है।

अलवर ज़िला का इतिहास महाभारत काल से भी पुराना बताया जाता है ज़िले से लगभग अलवर का कुछ प्राचीन नाम है को समय के साथ बदलते गए, मत्सय नगर , अवरलपुर, उल्वर, शालपुर, हलवार जब देश आज़ाद हुआ तो अलवर राज्य का राजा एच. एच. महाराज सर तेजसिंह थे सन 7 अप्रेल 1949 को विलय पत्र में हस्ताक्षर करने के बाद यह रियासत भारत का हिस्सा बन गया।

सन 2021 में अलवर ज़िले की अनुमानित जनसंख्या 4261313 है जिसमें पुरुष 224882 स्त्री 2012431 है ज़िले में 70.72 प्रतिशत लोग शिक्षित है अलवर ज़िले में लिंगानुपात 895 है।

>PUBG Mobile इंडिया में डाउनलोड कैसे करे

>Sbi Credit Card बंद कैसे करे जानकारी

>T Series का मालिक कौन है

>2 अगस्त को क्या है

>3 अगस्त को क्या है

अलवर ज़िले की एक कहानी बहुत ही प्रसिद्ध है जिसे संक्षिप्त में आपको बता रहे है अलवर के तत्कालीन राजा जयसिंह लंदन में शाम के समय टहल रहे थे उस समय वह साधारण कपड़ों में थे और लंदन की बहुत बड़ी कम्पनी राल्स रायल के शोरूम में चले गए वहाँ के सेल्स मेन ने राजा जी को भगा दिया।

उसके बाद क्या था राजा जी ने वहाँ 6 गाड़ियाँ खड़ी थी सबको भारत लाकर नगर के कचरे उठाने के काम लगा दिया जिससे कम्पनी की बहुत बदनामी हुई और राजा जी से माफ़ी भी माँगनी पड़ी।

2 अगस्त को क्या है

0
2 august ko kya hai

अगस्त 2 अगस्त माह का दूसरा दीन इस दिन भी ना जाने कितनी इतिहास में घटनाएं घटी होंगी कुछ अच्छी तो कुछ दिल पर एक दुख का एहसास देने वाली,पर जो भी हम क्या कर सकते हैं। हैं ..ना ..हम इतिहास नही बदल सकते है और ना ही हम वर्तमान में चल रही परिस्थितियों को ही सही कर सकते हैं।

जो भी घटना है वो तो घटित हो ही जाता है।पर हम इसमें भी कुछ अच्छा ढूंढ कर दुखी होने की बजह खुश हो सकते है।खेर जो भी हो चलिए देखते है।इतिहास के पन्नो में 2 अगस्त को क्या – क्या घटा

आखिर 2 अगस्त होता क्या है

2 अगस्त को हिंदी कैलेंडर हो या अंग्रेजी, अगस्त माह को 8 वे महीने के रूप में गिना जाता है ग्रेगोरी कैलेंडर के अनुसार 2 अगस्त वर्ष का 214वां (लीप वर्ष में 215 वां)दिन होता है औऱ अगर हम गिनती के हिसाब से कहे तो साल में अभी औऱ 151 दिन बाकी है।तो इसे कहते है 2 अगस्त, और क्या खास है 2 अगस्त पर चलिए जानते है।

2 अगस्त महत्वपूर्ण उत्सव

  1. 2 अगस्त विश्व स्तनपान दिवस जो कि अगस्त माह के प्रथम सप्ताह तक चलता है।
  2. 2 अगस्त मैत्री दिवस (friendship day)जो कि अगस्त के प्रथम रविवार से ही शुरू होता है।
  3. 2 अगस्त दादरा एवं नगर हवेली मुक्ति दिवस मनाया जाता है।

2 अगस्त की महत्वपूर्ण घटनाएं और इतिहास

इतिहास के पन्नो में 2 अगस्त का भी अपना एक इतिहास हैं और कुछ महत्वपूर्ण घटनाएं भी होंगी तो चलिए जानते है 2 अगस्त का इतिहास और घटनाएं  सबसे पहले जानेगें की इतिहास में 2 अगस्त के दिन क्या महत्वपूर्ण घटनाएं घटी जो अब एक इतिहास बन गई।और जिसे जानना हमे अतिमहत्वपूर्ण है परंतु ये भी सत्य है कि 2 अगस्त का दिन हमारे देश भारत के लिए महत्वपूर्ण साबित हुए इस 2 अगस्त की तारीख़ ने 2 अगस्त के दिन भारतीय खेल में अपना अत्यधिक पर्चस्व फैलाया तो चलिए जाने 2 अगस्त का इतिहास…

2 अगस्त का इतिहास एवं घटनाएं

-2 अगस्त 1987 का दिन हमारे देश भारत के विश्वनाथन आंनद ने फिलिपिन में आयोजित विशव जूनियर शतरंज चैम्पियनशिप में खिताबी विजय हासिल करि थी और ऐसा करने वाले एशियाई शतरंज के पहले खिलाड़ी बने विश्वनाथन आनन्द जी।

-2 अगस्त 1876 को भारत के राष्ट्रीय ध्वज का निर्माण करने वाले पिंगली वेंकैया का जन्म हुआ था।

-2 अगस्त 1763 को बिट्रिश सेना ने मुर्शिदाबाद पर अपना कब्जा जमा लिया था जिसके फलस्वरूप बिट्रिश सेना का पश्चिम बंगाल के गिरिया में मीर क़ासिम के साथ युद्ध हुआ था।और इस युद्ध मे बिट्रिश सेना मीर कासिम को हराकर विजयी हुई।

-2 अगस्त 1790 में अमेरिका में जनगणना की शुरुआत पहली बार हुई।

-2 अगस्त 1858 में बिट्रिश सरकार द्वारा एक अधिनियम पारित किया गया जिसे गवर्नमेंट इंडिया एक्ट नाम दिया गया।

-2 अगस्त 1831 – 10 दिन के अभियान के बाद मिली कामयाबी में नीदरलैंड ने बेल्जियम पर कब्जा कर लिया था।

-2 अगस्त 1870 में दुनिया का पहला भूमिगत रेल्वे ट्यूब की शुरुआत लंदन में सबसे पहले हुई थी।

-2 अगस्त 1980 इटली में बम धमाका हुआ था।जिसमे 85 लोगो की मौत हो गयी थी।

-2 अगस्त 1922 चीन में समुद्री तूफान की बजह से 60,0000 लोगो की मृतु हो गयी थी।

-2 अगस्त 1944 तुर्की ने इस जर्मनी के साथ अपने राजकीय सम्बन्ध तोड़ दिए थे।

-2 अगस्त 1955 सोवियत संघ ने परमाणु परीक्षण किया था इस दिन।

-2 अगस्त 1984 बिट्रेन के एक नागरिक के फोन टेपिंग को यूरोप के मानवाधिकार कोर्ट ने यूरोपीय संधि का उल्लंघन बताया था।

-2 अगस्त 1990 प्रथम खाड़ी युद्ध की बजह बना इराक के 1 लाख ने भी अधिक सेनिको ने 700 टैंकों के साथ कुवैत पर कब्जा करके अपना बना लिया था।

-2 अगस्त 1999 चीन ने लम्बी दूरी 8000 कीमी.सतह पर मार करने वाली मिसाइल का परीक्षण किया था।

-2 अगस्त 1999 भारत मे ही विपरीत दिशा की और चल रही एक पटरी पर ब्रह्मपुत्र एक्सप्रेस और अवध असम एक्सप्रेस घेसल में आमने सामने टकरा गई थी।

-2 अगस्त 2001 को पाकिस्तान ने भारत को चीनी आयत करने की मंजूरी दी थी।

-2 अगस्त 2007 जाफना के दक्षिणी द्वीप कियुशू में सुबह तड़के आये भयानक तूफान जिसका नाम युगासी था जिसने व्यापक पैमाने पर अत्यधिक क्षति पहुंचाई थी।

-2 अगस्त 2010 पाकिस्तान जो कि भारत का पड़ोसी देश है।जिसके खैबर पख्तूनख्वा प्रान्त में बाढ़ आने से 1000 से भी अधिक लोगो की मौत हो गयी थी।

इस प्रकार हमारे देश भारत के अलावा पूरी दुनिया मे ही ना जाने कितनी ही घटनाएं घटी होंगी जिनके बारे में इतिहास के पन्नो में कोई जानकारी शामिल नहीँ हो पाई होंगी ,परंतु ये घटनाएं अत्यधिक महत्वपूर्ण घटनाएं है।जिन्होंने इतिहास के पन्नो में अपना महत्वपूर्ण स्थान बना लिया क्योंकि कोई भी घटना या इतिहास अचानक ही बन जाते है।जिसकी कोई तारीख या समय निश्चित नहीं होता।इसे महत्व इनके बुरे या अच्छे कार्य बना देते हैं।

2 अगस्त को जन्म लेने वाले व्यक्ति का स्वभाव

ये तो हम सब ही जानते हैं कि पूरे वर्ष ही पूरी दुनिया मे बच्चों का जन्म होता है।लेकिन क्या ये हमें पता रहता हैं कि इनका किस तरह का स्वभाव होंगा आपने देखा होंगा की कोई बच्चा बहुत चतुर तो कोई भोलाभाला, तो कोई अच्छी किस्मत लेकर आते हैं, तो किसी की किस्मत कुछ खाश नहीँ होती और ये सब बच्चा स्वयं नहीँ चाहता कि ऐसा होए,बस जो भगवान ने उसके साथ लिखा है वही होंगा और इसका अत्यधिक प्रभाव उस माह में जन्म लेने का भी पड़ता है।

क्योंकि हर दिन,हर माह का अपना एक विशेषमहत्व या प्रकृति होती है।व्यक्ति का उस माह के गुण ,दोष,और दिन का भी योगदान रहता है। तो चलिएजानते हैं 2 अगस्त को जन्म लेने वाले जातक का स्वभाव…

2 अगस्त को जन्म केने वाले व्यक्ति में शानदार ओर वैभवशाली जीवन जीने की प्रबल ईक्षा रहती है और इसको पाने के लिए वह पूरी कोशिश करता है 2 अगस्त को जन्म लेने वाला व्यक्ति का गुरु सूर्य होता है इस बजह से ही ये व्यक्ति उग्र स्वभाव के होते है जिसकी बजह से ये इस तरह के स्वभाव के कारण परेशान से रहते है इनको हमेशा ऐशो आराम का जीवन को पाने की ईक्षा रहती है और अगर ये ना मिले तो ये हठी, क्रोधित और हिंसा का कार्य करते है।

2 अगस्त को जन्म लिए व्यक्ति

-2 अगस्त 1861 भारत के प्रसिद्ध वैज्ञानिक जो रसायन विज्ञान के जनक माने जाते उनका जन्म हुआ था

-2 अगस्त 1918 दादा वासवानी का जन्म सिंध के हैदराबाद के एक सिंधी परिवार में हुआ था।दादा वासवानी के चाचा साधु वासवानी एक रहस्यवादी,दार्शनिक, मानवतावादी,शिक्षाविद ,और भारतीय संस्कृति को प्रेरित किया है।दादा वासवानी ने 75 पुस्तक लिखी है।तथा और भी समाजसुधारक और अन्य सम्मानीय कार्य किये है।जिनके लिए उन्हें काफी सम्मान मिल चुका है।

-2 अगस्त 1945 बंकर रॉय का जन्म हुआ था।ये समाजिक कार्यकर्ता और एक शिक्षक है 2010 में 100 सबसे प्रतिभाशाली व्यक्तियों में से एक के रूप में चुना गया था।

-2 अगस्त 1924 जेम्स आर्थर बाल्डविन का जन्म हुआ था ये अफ्रीकी-अमेरिकी उपन्यासकार, निबन्धकार, नाटककार, कवि ओर सामाजिक आलोचक थे।

-2 अगस्त 1922 भारत के प्रसिद्ध उधमियों में से एक जी.पी.बिड़ला का जन्म हुआ था।

-2 अगस्त1956 गुजरात के वर्तमान मुख्यमंत्री विजय रुपाणी का जन्म हुआ था।

-2 अगस्त 1958 पूर्व भारतीय क्रिकेटर अरशद अयूब का जन्म हुआ था।

-2 अगस्त 1878 पिंगली वेंकय्या जिन्होंने राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे का निर्माण किया,उनका जन्म हुआ था।

-2 अगस्त 1955 धीरेंद्र अग्रवाल जी का जन्म हुआ जो ग्यारहवीं और बारहवीं लोकसभा के सदस्य थे।

-2 अगस्त 1877 रविशंकर शुक्ल जी का जन्म हुआ था।जो मध्यप्रदेश के पहले मुख्यमंत्री थे।

-2 अगस्त 1956 विजय रुपाणी जी का जन्म हुआ जो कि वर्तमान में गुजरात के मुख्यमंत्री है।

-2 अगस्त 1966 एम.वी.श्रीधर जी का जन्म हुआ जो कि भारतीय क्रिकेटर है।

-2 अगस्त 1970 फिलो वालेस जी का जन्म हुआ जो पशिचिमी भारतीय क्रिकेटर है।

2 अगस्त 1931 उमाकांत मालवीय जी का जन्म हुआ जो एक प्रतिष्ठित कवि एवं गीतकार थे इस प्रकार 2 अगस्त को ना जाने कितने अनगिनत महान व्यक्तियो ने जन्म लिया होंगा और अपना नाम और हमारे देश का नाम रोशन किया होंगा जिनकी।जानकारी हमारे पास होती हैं तो हम उसे जान जाते है पर ना जाने कितने ही महान व्यक्ति होंगे जिनकी जानकारी हमें प्राप्त नहीं हो पाती है।

>3 अगस्त को क्या है

>हिंदी भाषा का हमारे जीवन में महत्व

2 अगस्त को हुए निधन

जिस प्रकार 2 अगस्त महान व्यक्ति के जन्मदिन का दिन है उसी प्रकार उस दिन कई महान व्यक्तियों ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया था।इन्ही में से कुछ महान व्यक्ति इस प्रकार है।

-2 अगस्त 1714 को स्टीम इंजन के आविष्कारक डेनिम पापेन का निधन हुआ था।

-2 अगस्त 1979 को हिंदी चलचित्र अभिनेता ,गायक करन दिवान का निधन हुआ था।

-2 अगस्त 1921 इतावली संगीतकार, गायक एनरिको करुसो का निधन हुआ था।

-2 अगस्त 2010 भारतीय सिनेमा के अभिनेता कमल कपूर का निधन हुआ था।

-2 अगस्त 1980 पदमभूषण से सम्मानित प्रसिद्ध मूर्तिकार रामकिंकर बेज का निधन हुआ था।

-2 अगस्त 2009 कांग्रेस के वरिष्ठ नेता तथा गुजरात के मनोनीत राज्यपाल देवेंद्र नाथ द्विवेदी का निधन हुआ था।

इस प्रकार 2 अगस्त का दिन प्रत्येक दिन के हिसाब से आता हैं और चला जाता हैं परंतु इन्ही तारीख में कोई महान व्यक्ति जन्म लेता है और कुछ खास कार्य करता है और इतिहास के पन्नों में अपनी एक अमीठ छाप छोड़ जाता है।जिसको हम उस व्यक्ति के ना रहने पर भी उनकी सालगिरह को प्रत्येक साल याद करके बड़े उत्साह के साथ मनाते हैं तभी तो वो महान कह लाते है।

3 अगस्त को क्या है

0
3 august ko kya hai

3 अगस्त आप तो जानते ही है।कि हर क्षण हर पल ना जाने कितने इतिहास या घटनायें जन्म लेती हैं और ये अपना एक अलग स्थान बना लेती है जिसको जानने के लिए हम कई किताबें, नेट और ना जाने क्या -क्या छानते है तो चलिए हम बताते है

आपको 3 अगस्त का इतिहास, महत्वपूर्ण, घटनाएं और इस 3 तारीख को किस महान पुरुषो का जन्म हुआ और ना जाने किस महान व्यक्ति ने इसी दिन इस दुनिया को अलविदा कह दिया,तो चलिए जाने 3 तारीख की कुछ खास बातों को इसमें 3 अगस्त को जन्म लेने वाले व्यक्ति का स्वभाव उसका जन्म मूलांक ये सब हमारे पूरे जीवन पर असर करता है जोकि 3 तारीख को जन्म लेते हैं।

आखिर 3 अगस्त होता क्या है

3 अगस्त का दीन ग्रेगोरी कैलेंडर के अनुसार अगस्त वर्ष का 215 वाँ लीप वर्ष में 216वाँ दिन है और साल में अभी और 150 दिन शेष है 3 अगस्त के मूलांक में बहुत ही महान – महान व्यक्तियों का जन्म हुआ है जिनमे से कुछ इस प्रकार है।

  1. अब्राहम लिंकन
  2. औरंगजेब
  3. जनरल मानेक शां
  4. डॉ. राजेन्द्र प्रसाद
  5. स्वामी विवेकानंद

और इनके बारे में आप इतिहास के पन्नों को पलटकर देख सकते हैं और इनमें से कुछ के बारे में तो आप बहुत अच्छी तरह से जानते भी होंगे, इससे हम ये अनुमान लगा सकते है कि मूलांक का हमारे जीवन मे अत्यधिक महत्वपूर्ण हाथ रहता है और तिथि मूलांक राशि सभी हमारे जन्म की तारीख से मेल खाते है तभी तो हम जन्म पत्रिका आदि बनवाते है। और इन पर पूरा विशवास करते है।

3 अगस्त को जन्म लेने वाले व्यक्ति का स्वभाव

सभी का स्वभाव अलग- अलग तरह का होता है ये बात तो हम सभी जानते है कुछ क्रोधित स्वभाव के तो कुछ हँसमुख, कुछ चंचल, तो कुछ शांत सभी का अपना अपना एक अलग स्वभाव होता है और इसका सबसे महत्वपूर्ण कारण हमारे जन्म का समय, मूलांक, तिथि इन सब चीजों का ही असर होता है जिसकी बजह से हमारे स्वभाव अलग अलग प्रकार के होते है।

चलिए जानते है 3 तारीख को जन्म लेने वाले व्यक्ति का स्वभाव किस तरह का होता है।

1. 3 अगस्त को जन्म लेने वाले व्यक्ति अजनबियों पर जल्दी विशवास नहीँ करते।

2. 3 अगस्त में जन्म लेने वाला व्यक्ति ये हर किसी को अपना दोस्त नहीँ बनाते।

3. 3 अगस्त को जन्म लेने वाला व्यक्ति अगर किसी को अपना दोस्त बनाता है तो इनकी दोस्ती सच्ची
दोस्ती साबित होती है।

4. 3 अगस्त में जन्म लिए व्यक्ति के विशवास को प्राप्त करना बहुत मुश्किल होता है।

5. 3 अगस्त में जन्म लिया व्यक्ति बहुत कम लोहा पर ही विशवास करता है।हर कोई इतनी आसानी से
उनके दिल मे अपना स्थान बनाने में असमर्थ ही रहता है।

3 अगस्त का महत्वपूर्ण उत्सव

  1. 3 अगस्त ह्रदय प्रत्यारोपण दिवस जो हमारे देश भारत मे मनाया जाता है।
  2. 3 अगस्त विश्व स्तनपान दिवस जो कि प्रथम सप्ताह तक चलता है।

3 अगस्त का महत्वपूर्ण इतिहास और घटनाएं

-3 अगस्त 1108 लुई षष्ठम फ्रांस का सम्राट बना था।

-3 अगस्त 1492 इटली के नाबिक क्रिस्टोफर कोलम्बस ने भारत के रास्ते की खोज की और इसी दिन से अपनी यात्रा की शुरुआत करी थी।

-3 अगस्त 1492 यूरोपियन देश से यहूदियों को बाहर निकाल दिया गया था।

-3 अगस्त राबर्ट लासेले ने अमेरिका में पहले जहाज का निर्माण किया था।

-3 अगस्त 1914 पहला समुद्री जहाज पनामा नहर से गुजरा था।

-3 अगस्त 1900 फर्स्ट वन टायर एन्ड रबर कम्पनी की स्थापना हुई थी।

-3 अगस्त1925 अमेरिका की अंतिम सैन्य टुकड़ी ने निकारागुआ छोड़ा था।

-3 अगस्त 1780 मेहर पोफम के तेहत कैप्टन ब्रुश ने ग्वालियर पर कब्जा किया था।

-3 अगस्त 1985 को बाबा साहब आम्टे को जनसेवा के लिए रेमन मैग्सेसे पुरुस्कार प्रदान किया गया था।

-3 अगस्त 1957 अब्दुल रहमान को मलेशिया का नया नेता चुना गया और उनके नेतृत्व में बिट्रेन से मलेशिया को आजादी मिली थी।

-3 अगस्त 1960 पश्चिम अफ़्रीकी देश नाइजर ने फ्रांस से स्वतंत्रता हासिल की थी।

-3 अगस्त 2000 ब्रिटेन की क्वीन मदर द्वारा अपनी 100 वीं वर्षगाँठ मनाई गई थी।

-3 अगस्त 2003 में अमेरिका के एग्लिकन चर्च में एक समलैंगिक को बिशप बनाने का फ़ैसला किया गया थ तथा न्यू हेम्पशायर के जैन रॉबिन्सन को एपिस्कोपल चर्च के हाउस ऑफ डेप्यूटीज ने भारी बहुमत से बिशप बनाया था।

-3 अगस्त अमेरिकी अंतरिक्ष यान मैसेंजर बुध ग्रह के लिए रवाना हुआ था।

-3 अगस्त 2006 सयुंक्त राज्य अमेरिका ने कहा कि वह भारत को यूरेनियम संवर्धन में सहायता नहीं देगा।

-3 अगस्त 2007 इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन के लिए रवाना हुआ रूसी अंतरिक्ष यान प्रोग्रेस एम-61 सफलतापूर्वक अपनी कक्षा में पहुँचा।

3 अगस्त को जन्मे व्यक्ति

चलिए फ्रेंड्स जानते है 3 अगस्त को किस -किस महान व्व्यक्तियों ने जन्म लिया है।

  1. 3 अगस्त 1846- मैथिलीशरणगुप्त खड़ी बोलिंके महत्वपूर्ण कवि थे इस दीन इनका जन्म हुआ था।
  2. 3 अगस्त 1890 श्रीप्रकाश भारत के प्रसिद्ध क्रांतिकारी और पाकिस्तान में प्रथम उच्चायुक्त थे
  3. 3 अगस्त 1933 शशिकला भारतीय हिंदी सिनेमा की प्रसिद्ध खलनायिका में से एक थी।
  4. 3 अगस्त 1939 को अपूर्व सेनगुप्ता जो कि भारतीय क्रिकेटर उनका जन्म हुआ था।
  5. 3 अगस्त 1916 शकील बदायुनी का जन्म हुआ जो कि हमारे देश भारत के महान गीतकार और शायर है।
  6. 3 अगस्त 1960 को भारतीय क्रिकेटर गोपाल शर्मा का जन्म हुआ।
  7. 3 अगस्त 1956 को भारतीय क्रिकेटर बलविंदर संधू का जन्म हुआ ।
  8. 3 अगस्त 1941 भारतीय सैनिक बाबा हरभजन जी का जन्मदिवस रहता है।
  9. 3 अगस्त भारतीय शास्त्रीय गायक छन्नूलाल मिश्रा जी का जन्मदिवस रहता है।
  10. 3 अगस्त 1984 सुनील छेत्री प्रसिद्व भारतीय फुटबॉल खिलाड़ी जो मोहनबगान एफसी के लिए लहेल रहे
    हे।सुनील छेत्री को एएफसी द्वारा उनके 34 वे जन्मदिन पर एशियन आइकन नामित किया गया था।
  11. 3 अगस्त 1919 जयदेव जो कि भारतीय संगीतकार और बाल अभिनेता जिनका जन्म हुआ था।
  12. 3 अगस्त 1908 प्रसिद्ध साहित्यकार, विचारक,लेखक,दार्शनिक, भाष्यकार और स्वतंत्रता सेनानी
    थे।जिनका नाम रोहित मेहता है उनका जन्मभूआ था।
  13. 3 अगस्त 1966 को भारतीय फिल्म अभिनेता है इनका पूरा नाम मोहम्मद फैसल हुसैन खान है।जो कि बॉलीवुड के प्रसिद्ध अभिनेता आमिर खान के भाई है इनका जन्म हुआ था।
  14. 3 अगस्त 1981 को मनीष पॉल जी का जन्म हुआ जो कि जाने माने टीवी होस्ट,आरजे,टीवी कलाकार है।

3 अगस्त को निधन हुए व्यक्ति

जिस प्रकार कई महान व्यक्ति ने 3 अगस्त को जन्म लिया उसी प्रकार कोई – कोई सा दिन ऐसा होता है जिन्हें हम जाना भी नहीं चाहते पर ज्ञान और शिक्षा में इसका अत्यधिक महत्व होता है उसी प्रकार 3अगस्त को कई ऐसे महान व्यक्ति है।जिन्होंने इस दुनिया को अलविदा कह दिया चलिए जानते हैं कौन है वो जिन्होंने इस दुनिया को 3 अगस्त को अलविदा कह दिया।

  1. 3 अगस्त 1993 स्वामी चिन्मयानंद जी ,जो कि भारत के प्रसिद्ध आध्यात्मिक चिंतक तथा वेदांत दर्शन के
    विश्व प्रसिद्ध विद्वान थे।
  2. 3 अगस्त 1985 बनारसी दास जी का देहांत हुआ जो कि स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे।
  3. 3 अगस्त 1990 सी.एम.पुनाचा जो कि स्वतंत्रता सेनानी,राजनीतिज्ञ तथा उड़ीसा और मध्यप्रदेश के
    भूतपूर्व राज्यपाल थे।
  4. 3 अगस्त 1982 त्रिभुवन नारायण सिंह जो कि भारतीय राजनेता और उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री थे।
  5. 3 अगस्त 1792 रिचर्ड आर्कराइट जी का निधन हुआ था।जो कि एक महान खोजकर्ता और बहुत बड़े उधोगपति थे।
  6. 3 अगस्त 1940 कृष्णराज वोडेयार चतुर्थ जी का निधन हुआ राजसी शहर मैसूर के सत्तारुढ़ राजा थे।
  7. 3 अगस्त 1908 मौलवी खुदाबक्श खान जी का निधन हुआ।मौलवी खुदाबक्श खान पटना के प्रसिद्ध लाइब्रेरी के संस्थापक थे खुदाबक्श जी दुनिया के दूसरे सबसे बड़े ग्रँथपालक के रूप में जाने जाते है।
  8. 3 अगस्त 1937 को आंद्रेस गिमेनो जी का निधन हुआ।
  9. 3 अगस्त 1993 प्रेमकृष्ण खन्ना जो कि हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन के एक प्रमुख सदस्य थे इनका निधन हुआ था।

>हिंदी भाषा का हमारे जीवन में महत्व

इस प्रकार 3 अगस्त का दिन हमारे जीवन पर तो प्रभाव डालता है।और वो इस प्रकार से की वो एक तारीख है परंतु किसी-किसी की तो जन्मदिवस वाली तारीख होते है।और इसका प्रभाव उनपे अत्यधिक रहता है क्योंकि इसी दिन तो उस व्यक्ति ने अपनी आँख इस धरती पर खोला था।इसलिए फ्रेंड्स हमारी राशि,मूलांक,आदि बहुत महत्व रखते है।साथ ही आपको पता ही होंगा की हम हमारी जन्म तारीख की एक जन्मपत्रिका भी बनवाते है।जिसको देखकर कोई भी जन्मत्तरीख ज्ञाता उसे पड़कर हमारे बारे में बता देता है जन्मपत्रिका में हमारी जन्मत्तरीख,मूलांक,स्वभाव,क्या उचित,क्या अनुचित है शादी,बच्चें सभी कुछ होता हैं।

यहाँ तक कि वर्तमान से लेकर भूतकाल और भूतकाल से लेकर भविष्यकाल तक कि भविष्यवाणी कर दी जाती किसी- किसी के द्वारा हमारे जीवन मे चल रही उथल-पुथल का भी कुछ ना कुछ हल ज्ञानवान लोग बता देते है।जिन्हें ज्योतिष कहा जाता है।अब आप ये कहेंगे कि आप हमें ये क्या जानकारी दे रहे है तो फ्रेंड्स में आपको बतादूँ की हमारी एक जन्म की तारीख से ही हमारे पूरे जीवन के बारे में एकज्योतिषि बता सकता है।

परंतु वही बता सकता है जिसे इसका सम्पूर्ण ज्ञान होइज़लिये हमारी जन्म तारीख का अत्यधिक महत्व रहता है आजकल तो जन्मप्रमाण तक हमारे बने रहतेथे परंतु पुराने समय मे नक्षत्र और ग्रह के जरिये ही जन्म तारीख को याद रखा जाता था।

इस प्रकार हर तारीख और समय का हमारे ऊप्पर गहरा प्रभाव रहता है उसी प्रकार 3 तारीख में जन्में व्यक्ति का तेज और प्रभाव का असर ही है जिसके चलते इतिहास में ना जाने कितने ही अनगिनत व्यक्तियों ने जन्म लिया होंगा जिसका हमें ज्ञान नहीं है परन्तु जितने के बारे में हम जानते है उनकी जानकारी हम ऊप्पर पूरी दे चुके है।

ऑनलाइन पढ़ाई कैसे करे जानिए

0
Online Padhai kaise kare

दोस्तों जैसा कि आप जानते हैं जब से हमारे भारत देश में कोरोना वायरस फैला है, तब से विद्यार्थियों को पढ़ाई करना काफी मुश्किल हो गया है, वह चाह कर भी पढ़ाई नहीं कर पा रहे हैं, क्योंकि स्कूल, कॉलेज, कोचिंग सेंटर सभी बंद है। ऐसे में चलिए दोस्तों आज हम आपको बताने वाले हैं। कि आप घर बैठे ऑनलाइन पढ़ाई कैसे करें। 

दोस्तों जिस प्रकार आप स्कूल या कॉलेज में जाकर पढ़ाई करते हैं। उसी प्रकार आप घर बैठ कर ऑनलाइन पढ़ाई कर सकते हैं। इसके लिए आपको एक अलग से स्टडी रूम बनाना पड़ेगा। और वहां पर आप अपने टाइम टेबल के हिसाब से अपना नोटबुक और जरूरी सामान लेकर बैठ सकते हैं। आज के बदलते इस डिजिटल इंडिया में ऐसे कई मोबाइल ऐप है, वेबसाइट है, यूट्यूब चैनल है, जहां से आप फ्री में घर बैठे ऑनलाइन पढ़ाई कर सकते हैं। और अगर आपके पास पैसा है, तो आप इनका पेड कोर्स भी खरीद सकते हैं।

घर बैठे ऑनलाइन पढ़ाई के लिए बेस्ट ऐप

1.Unacademy Learning App

घर बैठे ऑनलाइन पढ़ाई करने के लिए Unacademy एक बहुत ही अच्छा मोबाइल एप है। दोस्तों आप अपने मोबाइल के Play Store में जाकर इस Unacademy Learning App को डाउनलोड करके इसमें अपना अकाउंट बना ले, इसके बाद आप ऑनलाइन पढ़ाई कर सकते हैं। जिस प्रकार आप अपने स्कूल या कालेजों में पढाई करते हैं, उसी प्रकार यहां भी टीचर पूरा लाइव आकर पढाते है।

2. यूट्यूब

दोस्तों आज के समय में यूट्यूब भी एक ऑनलाइन पढ़ाई करने का बहुत अच्छा जरिया बन गया है। हमारे भारत देश के ऐसे बहुत से योग्य शिक्षक हैं, जो यूट्यूब पर अपना यूट्यूब चैनल बनाकर के बच्चों को ऑनलाइन कोचिंग पढ़ा रहे हैं। आप भी अपने सब्जेक्ट के हिसाब से उनका यूट्यूब चैनल Subscribe करके बहुत ही अच्छे ढंग से घर बैठे पढ़ाई कर सकते हैं।

3. गूगल 

घर बैठे ऑनलाइन पढ़ाई करने के लिए गूगल भी एक बहुत अच्छा प्लेटफार्म हैं। यहां पर आप अपने पढ़ाई से संबंधित कोई भी प्रश्न को गूगल पर सर्च कर सकते हैं। और सर्च करते ही आपके सामने एक से अधिक Results दिखाई देने लगते हैं। आप उन Results को पढ़कर अपने प्रश्न का उत्तर पा सकते हैं।

4. ई पाठशाला 

अगर आप कक्षा 1 से लेकर 12वीं तक के विद्यार्थी हैं, तो ई पाठशाला आपके लिए बहुत ही अच्छा प्लेट फार्म हैं। क्योंकि यहां पर आप अपने क्लास के अनुसार NCERT की बुक को डाउनलोड कर सकते हैं। और घर बैठे पढ़ाई करने का लुफ़्त उठा सकते हैं।

5. फेसबुक

ऑनलाइन पढ़ाई करने के लिए फेसबुक भी बहुत अच्छा जरिया है। जहां पर आपकों अपने क्षेत्र के हिसाब से कई प्रकार के फेसबुक ग्रुप मिल जायेंगे। जिन्हें आप को ज्वाइन कर लेना है। और आप अपने सवालों के जवाब उस फेसबुक ग्रुप में पूछ सकते हैं।

6. Vedantu 

घर बैठे ऑनलाइन पढ़ाई करने के लिए वेदांतू भी एक बहुत अच्छा ही प्लेटफार्म है। यहां पर आप एक से लेकर 12 तक एनसीआरटी बुक, JEE, NEET की पढ़ाई कर सकते हैं। यहां पर आपको लाइव क्लासेस मिलेगा। और प्रीमियम कोर्सेस भी मिल जायेंगी।

7. BYJU’S 

दोस्तों अगर आप 11वीं या 12वीं के स्टूडेंट है। तो BYJU’S भी एक बहुत ही अच्छा मोबाइल ऐप है. घर बैठे ऑनलाइन पढ़ाई करने के लिए।

घर बैठे ऑनलाइन पढ़ाई करने के लिए बेस्ट युटुब चैनल

Physics Wallah – Alakh Pandey

इस चैनल की शुरुआत 28 जनवरी 2014 में हुई थी। इस चैनल पर 4.99M Subscriber हैं। यहां पर 11वीं तथा 12वीं के के विद्यार्थी Physics की पढ़ाई कर सकते हैं।

Edumantra

इस चैनल की शुरुआत 23 फरवरी 2014 में हुई थी। इस चैनल पर 1.71M Subscriber हैं। इस चैनल से 10वीं के विद्यार्थी पढ़ाई कर सकते हैं।

Bhai Ki Padhai

इस चैनल की शुरुआत 27 जनवरी 2017 में हुई थी, इस चैनल पर 1.79M Subscriber हैं। 9वीं और 10वीं के विद्यार्थी इस चैनल पर मैथ पढ़ सकते हैं।

Vedantu 9 &10

इस चैनल की शुरुआत 23 नवंबर 2018 में हुई थी। इस चैनल पर 1.39M Subscriber हैं। इस चैनल पर कक्षा 9 और 10 के विद्यार्थी हर सब्जेक्ट से संबंधित पढ़ाई कर सकते हैं।

Wifistudy

इस चैनल की शुरुआत 26 जुलाई 2014 में हुई थी। इस चैनल पर 13.8M Subscriber है। इस चैनल पर आप SSC, Banking, Railway other Government Exam की तैयारी कर सकते हैं।

Rajya Sabha TV

इस चैनल की शुरुआत 8 सितंबर 2011 में हुई थी, इस चैनल पर 5.71M Subscriber है, अगर आप आईएएस, आईपीएस की तैयारी करने वाले स्टूडेंट हैं, तो यह चैनल आपके लिए बहुत ही अच्छा है।

Drishti IAS

इस चैनल की शुरुआत 13 अप्रैल 2017 में हुई थी, इस चैनल पर 6.21M Subscriber है। अगर आप आईएएस की तैयारी करना चाहते हैं, तो यह चैनल आपके लिए बहुत ही बेहतरीन चैनल है।

Crazy GK Today

इस चैनल की शुरुआत 25 नवंबर 2015 में हुई थी, इस चैनल पर 4.73M Subscriber हैं। सरकारी नौकरी की तैयारी करने वाले विद्यार्थियों के लिए यह चैनल बहुत ही अच्छा चैनल है। क्योंकि यहां पर GK से संबंधित बहुत महत्वपूर्ण प्रश्नों को बताया जाता है।

EDU TERIA

इस चैनल की शुरुआत 3 मार्च 2015 में हुई, इस चैनल पर 2.23M Subscriber है। सरकारी नौकरी की तैयारी करने वाले विद्यार्थियों के लिए यह बहुत ही अच्छा चैनल है।

>PUBG Mobile इंडिया में डाउनलोड कैसे करे

>Sbi Credit Card बंद कैसे करे जानकारी

>T Series का मालिक कौन है

>2 अगस्त को क्या है

>3 अगस्त को क्या है

घर बैठे ऑनलाइन पढ़ाई करने का फायदा 

ऑनलाइन पढ़ाई करने का फायदा खासकर इस समय ज्यादा है। क्योंकि पूरे देश में कोरोनावायरस फैलने की वजह से स्कूल कॉलेज कोचिंग सेंटर सभी बंद है। सभी राज्यों ने अपने अपने हिसाब से लाक डाउन लगा रखे हैं। ऐसे में आप घर बैठे ऑनलाइन पढ़ाई कर सकते हैं।

1. एक बार में कोई प्रश्न ना समझ आने पर आप उसे बार-बार रिपीट करके पढ़ सकती हैं या यूट्यूब पर वीडियो देख सकते हैं।

2. स्कूल या कॉलेज में आने जाने में लगने वाला समय की बचत होगी।

3. ऑनलाइन पढ़ाई करते समय आप कहीं भी रह कर पढ़ाई कर सकते हैं। जैसे- जब आप घर हो या कहीं घूमने गए हो या रिश्तेदारी गए हों, तब भी आप ऑनलाइन पढ़ाई कर सकते हैं।

4. ऑनलाइन पढ़ाई करने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि आप अपने हिसाब से समय निकाल कर पढ़ाई कर सकते हो।

घर बैठे ऑनलाइन पढ़ाई करने का नुक़सान 

1. घर बैठकर ऑनलाइन पढ़ाई करने के कारण आप अपने स्कूल कॉलेज के दोस्तों से नहीं मिल पाते हैं।

2. स्कूल या कॉलेज में ना जाने के कारण आपका दिमाग फ्रेश नहीं हो पाता है,

3. हमेशा मोबाइल में लगे रहने के कारण अधिकांश करके पढ़ाई से ज्यादा लोग फालतू की चीजें देखने लगते हैं।

4. हमेशा घर में बैठे रहने के कारण पढ़ाई में मन नहीं लगता है।

5. हमेशा घर में बैठे रहने के कारण परिवार के सदस्य कोई ना कोई काम बताते रहते हैं, जिसकी वजह से पढ़ाई नहीं हो पाती है।

6. हमेशा लैपटॉप या मोबाइल के सामने बैठने की वजह से आंखों पर भी काफी ज्यादा प्रभाव पड़ता है।

T Series का मालिक कौन है

0
T series ka Malik kaun hai

दुनियाँ में बहूत सी कंपनियाँ हैं और अपने टॉपर कंपनियों के बारे में सुना और पढ़ा भी होगा मगर ऐसी एक सबसे लोकप्रिय संगीत कंपनी हैं जो कि अपने कभी उसके बारे में पढ़ा या सुना होगा या नही मगर आज मैं आपको उस खास कंपनी के बारे में बताने जा रहाँ हूँ।

आपके सामने बहूत सी कंपनियों के नाम आए होंगे मगर मैं बताने जा रहाँ हूँ केT Series बारे तो जानते हैं दोस्तो आज के इस आर्टिकल में हम टी सीरीज के बारे में कुछ खास जानकारी जो कि अब तक किसीको पता भी न होगी मगर इस आर्टिकल के माध्यम से मैं आपको बतावऊंगा

T Series की शुरुवात और मालिक –

T सीरीज का प्रारंभिक नाम सुपर कैसेट्स इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड था यह भारतीय रिकॉर्ड लेबल एवं फ़िल्म निर्माण कंपनी हैं इस कंपनी की स्थापना 11 जुलाई 1983 भारत दिल्ली में की गई । इसके प्रथम संस्थापक (निर्माता ) गुलशन कुमार थे । इन्होंने कंपनी का मुख्यालय नोएडा (भारत) में स्थापित किया।

गुलशन कुमार ने इस कंपनी का कार्य 1984 मे प्रारंभ किया और इसी वर्ष पहला गीत रिकॉर्ड किया और वह गीत लालू राम था इसका संगीत रविन्द्र जैन जी ने दिया था इसी समय से संगीत क्षेत्र में और फ़िल्म क्षेत्र में भी बहूत अच्छे कार्य किया और आगे बढ़ते-बढ़ते इस कंपनी द्वारा 1990 में आशिकी को T Series द्वारा गीत रिकॉर्ड किए गए यहाँ से ही कंपनी मंजिल की ओर बढ़ती गई।

और यही से T सीरीज बॉलीवुड में प्रवेश कर चुकी थी तो बॉलीवुड के क्षेत्र में Tसिरिज 1998 में प्रथम नंबर की कंपनी के रूप में पहचान मिल गई तो कंपनी के कारोबार में दिनों- दिन बढ़ोत्तरी हो रही थी और संगीत क्षेत्र में सबसे टॉपर T सीरीज कंपनी बन गई इसी बीच गुलशन कुमार की हत्या हुयी याने की 1997 में तो कंपनी का कारोबार गुशन कुमार के बेटे भूषण कुमार के हाथों में आया और 1997 से आज तक वर्तमान समय तक कंपनी के मालिक भूषण कुमार हैं

T Series कैसे काम करता हैं

सभी के दिमाग मे यह बात आयी होगी कि इतनी बड़ी कंपनी हैं इतनी ऊँचाई कैसे हासिल की तो जानते हैं यह कंपनी काम कैसे करती हैं इसके काम की बात करें तो यह एक संगीत रीकॉर्ड करने वाली कंपनी हैं तो यह अपने संगीत अल्बम रिलीज करती हैं प्रारंभिक दौर में गुलशन कुमार ने जो भी भक्तिगीत रिलीज किए हैं तो आज तक वह फेमस हैं।

इसके साथ ही युट्युब चैनल भी हैं उस चैलन के पर करोड़ो में व्यूज आते हैं और करोड़ो सब्सक्राइबर भी हैं तो यूट्यूब पर सबसे अधिक सुने जाने वाले गी , संगीत यह T सीरिज के ही होते हैं ऐसा रिसर्च के माध्यम से सामने आया हैं कि आज तक के जो जितने भी संगीत अल्बम हैं उनमें से 70 % तो इसी कंपनी से रिलीज हुए हैं।

बॉलीवुड की नंबर 1 कंपनी होने के कारण कोई भी कलाकार इस कंपनी के द्वारा अपने गाने का अल्बम बनाना चाहता क्यों उसे भी फेमस होना हैं तो मुह मांगी किमत पर यहाँ से अनेक लोग अपनी संगीत अल्बम रिलीन करवाते हैं T सीरीज लग-भग भारतीय 100 भाषायों से भी अधिक भाषाओं में अपना चैनल चलती हैं।

और फ़िल्म भी रिलीज करवाती हैं इतनी अच्छी और ख्याति प्राप्त कंपनी से रिलीज हुई फ़िल्म भी हिट होने के ज्यादा चांस होते हैं तो फिल्म के डायरेक्टर भी यहाँ से ही फिल्म बनाने की सोचते है अधिक भाषाओ में यह अपने चैनल चलती हैं तो आने वाले व्यूज, लाइक और सब्सक्राइब भी अच्छे में से अच्छे ही आते हैं T सीरीज ऐसे काम चलाती हैं और मार्केट में आगे बढ़ती हैं ।

T Series की कमाई 

अब हम बात करेंगे T सीरीज के कमाई के बारे तो इस कंपनी की कमाई देखकर आप चौक जाओगे दोस्तों क्योंकि आसान सी बात हैं कि बॉलीवुड में नंबर 1 की संगीत कंपनी और 100 से भी अधिक भाषाओं में चलने वाले यूट्यूब चैनल तो इसकी इंकम भी नंबर 1 ही होगी हम केवल यहाँ यूट्यूब के माध्यम से मिलने वाली कमायी का ही विचार करते हैं तो एक रिसर्च केनुसार जनवरी से जुलाई 2018 में केवल सात महीनों की कमाई सिर्फ यूट्यूब से 7,49,50,000 की थी यह सिर्फ सात महीने की ही इंकम हैं।

तो एक साल की इंकम तो लाजवाब ही होगी दोस्तों तो देखकर होश उड़ गए ना…! साथ ही दोस्तो संगीत अल्बम , फ़िल्म इन के माध्यम से होने वाली इसकी कमायी तो हमने देखी ही नही यह भी कमाई करोड़ो में होगी और ऐसी ही चौकाने वाली ही होगी अब देखते हैं दोस्तों T सीरीज के बारे में कुछ रोचक जानकारी यह जानकारी भी कमाल की हैं दोस्ती तो देखते वह रोचक जानकारी कौनसी हैं।

T Series के रोचक तथ्य 

  1. क्या आपको पता है कि 100 से भी अधिक भारतीय भाषाओं में टी सीरीज के चैनल चलते हैं यूट्यूब पर 170 मिलियन से भी अधिक सब्सक्राइबर वाला चैनल हैं और यूट्यूब पर फस्ट रैंक का A+ ग्रेड का चैनल हैं।
  2. 2020 तक सबसे अधिक देखा जाने वाला यूट्यूब चैनल T सीरीज हैं दिन में 70% संगीत T सीरिज द्वारा रिलीज किए हुए अल्बम के सुनते हैं
  3. क्या आप जानते हैं कि T सीरीज द्वारा पहली फिल्म तुम बिन का निर्माण किया हुआँ हैं T सीरीज के मोबाईल भी उपलब्ध हैं
  4. T सीरीज की सिर्फ यूट्यूब द्वारा एक दिन की कमाई हैं 26 लाख 80 हजार हैं यूट्यूब परसबसे अधिक कमाई करने वाला चैनल भी T सीरीज का ही हैं यह कहना उचित हैं।
  5. इतनी बढ़ी और फेमस कंपनी के वर्तमान समय के मालिक हैं भूषण कुमार जो कि गुलशन कुमार पुत्र हैं।

>2 अगस्त को क्या है

>3 अगस्त को क्या है

>हिंदी भाषा का हमारे जीवन में महत्व

T Series का चैनल क्यों लोकप्रिय हैं 

उपर्युक्त जानकारी पढ़ने कें बाद सभी के मन में यह सवाल आया ही होगा कि T सीरीज का चैनल क्यों लोकप्रिय हैं आपको इस सवाल का जवाब भी मिल जाएगा….।

दोस्तों कोई दुकानदार यदी अच्छी कॉलिटी का सामान देता हो तो सभी ग्राहक उन दुकान पर ही जाएँगे ना… ऐसा ही T सीरीज ने किया T सीरीज ने भी चैलन कें माध्यम से अपनी सबसे अलग और अच्छी कॉलिटी अपने श्रोताओं को प्रधान की और सभी उस कॉलिटी को देखकर ही इसके द्वारा बनाए गीतों के दीवाने हो गए।

आप यूट्यूब पर देख भी सकते हो कि T सीरीज के जो गाने हैं उनकी रिकॉर्डिंग किस कॉलिटी की हैं मुझे तो लगता हैं कि इसके जैसी कॉलिटी और किसी की नही साथ उस गानों की म्यूजिक भी और वीडियो शूटिंग भी देखिए बेहतर हैं । इस कंपनी के द्वारा पुराने गीतों का जब नया रीमिक्स किया गया तो वह भी लाजवाब हैं।

यह 100 भाषओं सें भी अधिक भारतीय भाषाओं में अपना प्रसरण तो देता ही हैं इसके साथ इसका लोकप्रिय होने का जो महत्वपूर्ण कारण हैं वह प्रारंभिक दौर में इन्होंने भक्तिगीतो की सीरीज बनाई उसमें , शिवा अमृत वाणी जोकि बहूत सी भाषाओं में और अनुराधा पौडवाल , लता मंगेशकर जैसे कही प्रथम श्रणी कें गायकों द्वारा गाए इसके गीत हैं
यही कारण हैं कि T सीरीज के चैनल लोगो में लोकप्रिय हुऐ और इसके साथ भी बॉलीवुड में भी…।

T Series दुनियाँ की नंबर 1 कंपनी 

उपर्युक्त बिंदुओं का अध्ययन करने से पता चलता हैं कि T सीरीज नंबर 1 की कंपनी हैं क्यों कि इसके द्वारा निर्माण किया गया संगीत कॉलिटीबाज, विडिओ का सुंदर और आकर्षक एडिटिंग और यूट्यूब पर सबसे अधिक लोकप्रियता होने कें कारण इसकी कमाई भी अधिक है।

इसी आधार पर दुनियाँ की नंबर 1 कंपनी T सीरीज हैं यह हम कह सकते हैं आशा हैं कि दोस्तो आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो और आपके काम की भी ….अपने अंतः तक आर्टिकल पढ़ा इसलिए आपका आभारी हूँ।

PUBG Mobile इंडिया में डाउनलोड कैसे करे

0
PUBG Mobile India Download Kaise Kare

नमस्कार दोस्तों आपको फिर से एक बार स्वागत है आज के इस आर्टिकल के जरिए मे आपको बताऊंगा कि कैसे PUBG Mobile India को आप डाउनलोड कर सकते है और ये क्या है उसको आप कैसे अपने मोबाइल में play कर सकते है। 

जैसे के आप सभी को पता है कि PUBG Mobile Game एक बहुत ही लोकप्रिय गेम है साथ ही इस गेम पर बहुत सारे लोगों का Youtube चैनल भी है जिससे वो live Streaming कर के पैसे भी कमाते है। 

लेकिन कुछ दिन पहले India मे Pubg Mobile game को पूरी तरह से ban कर दिया है। भारत सरकार के नियम के अनुसार PUBG Mobile Game समेत बहुत सारे Application Ban कर दिए थे लगभग  117 Application पिछले साल सितम्बर मे Ban कर दिए गए जिसमे PUBG भी शामिल था। 

लेकिन कुछ समय तक Pubg mobile Game हमारे इंडिया मे चलता रहा और थोड़े दिन बाद इसके Server बंद कर दिए गए। इस game का server China से लिंक है जिससे हमारे देश के किए Privacy Policy को लेकर खतरा था तब भारत में फैसला लिया गया कि Pubg Mobile को Ban किया जाए। अगर आप अभी Google Play Store पर Search करते है तो आपको PUBG Mobile Official गेम नहीं मिलेगा। 

लेकिन आपको एक खुशी की खबर बता दू की इंडिया में PUBG Mobile गेम जल्द आ रहा है न्यूज रिपोर्ट के मुताबिक जानकारी बताया जा रहा है बहुत  ही जल्द फिर से नए अवतार में इंडिया में PUBG Mobile Game Battleground Mobile India के नाम से आ रहा है। अभी इसका कोई फिक्स टाइम नहीं बताया गया है। लेकिन इस साल के अंदर आने का अनुमान लगाया जा रहा है। 

अगर अभी आप Play स्टोर पर Pubg mobile सर्च करते है तो आपको इसके रिलेटेड नाम से बहुत सारे Games देखने को मिलेंगे लेकिन वो सारे Game Pubg mobile गेम original नहीं है अगर अभी आप google पर pubg mobile India लिखकर सर्च करते है तो आपको ओरिजिनल गेम नहीं मिलेगा। इसलिए आपको बताना चाहूंगा कि थोड़ा इंतजार करना होगा जब तक Official update नहीं आ जाता है। 

PUBG की भारत में जल्द वापसी होने वाली है हर कोई PUBG Mobile के इंडियन Version की रिलीज डेट का इंतेज़ार कर रहा है उम्मीद की जा रही है कि इसकी लॉन्च डेट जल्द से जल्द सामने आने वाली है ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि कुछ यूजरो ने बताया कि हाल ही में PUBG मोबाइल की विजिट पर Download link ( PUBG Mobile Apk Download लिंक) और एक पेज सामने आया था हालाकि बाद में इसे हटा दिया गया था कुछ यूजर्स को ऑफिशियल वेबसाइट पर लिंक दिख रही थी लेकिन ये काम नहीं कर रहा था। 

इसके अलावा PUBG mobile का नया LOGO भी सामने आ रहा है और ये शायद भारत के लिए खास तौर पर डिजाइन किया गया है। हालांकि अब ये सेक्शन आधिकारिक website पर से गायब हो गया है लेकिन इससे उम्मीद जताई जा रही है कि जल्द ही असली launch डेट सामने आ सकती है। ट्विटर पर कुछ यूजर्स ने डाउनलोड लिंक पर ट्वीट भी किया है। 

PUBG mobile के Ban होने के बाद Pubg corporation ने इंडिया के लिए एक अलग से version निकाला है जो सिर्फ इंडिया के लिए बनाया गया है लेकिन Pubg mobile India को भी इंडिया में आने मे भी बहुत सारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा था लेकिन फिर थोड़े समय बाद इस गेम को इंडिया में रिलीज कर दिया गया। 

आपको बता दे की PUBG Mobile इंडिया कोरियन कंपनी Krafton India द्वारा बनाया जा रहा है जिसमे Microsoft भी शामिल है server Microsoft Azure के किए जा रहे है। Pubg corporation ने ये Announce किया था कि वो माइक्रोसॉफ्ट Azure के साथ Collaboration करके इंडिया में pubg Mobile की  वापसी करवाएंगे। 

इसका Global version और इंडियन version का नाम अलग अलग होगा global वजन Pubg mobile नाम से आता है और जबकि Indian version PUBG mobile India के नाम से पेश किया जाएगा। इंडियन वर्जन का logo भी नया है PUBG मोबाइल इंडिया में player की Privacy और Security कंपनी की सबसे पहली प्राथमिकता होगी कंपनी ने कहा है कि यह नया game अपने यूजर्स को डेटा सिक्योरिटी को बढ़ाएगा और स्थानीय नियमों को पालन करेगा। 

PUBG Mobile India Download कैसे करे 

आपको बता दू की आपको Pubg Mobile India के लिए अपने Android और iphone मे डाउनलोड करना है तो आपको में काफी सारी तरीके बताऊंगा। जिसमे आप Pubg mobile India को अपने मोबाइल मे बहुत आसानी से डाउनलोड कर सकते है। 

1. Play Store से करे download 


Pubg mobile India version को play स्टोर से Download करने के किए सबसे पहले आपको अपने प्ले स्टोर में सर्च करना होगा pung mobile Indiaऔर इसके बाद आपके सामने game आ जाएगा फिर आपको इसे Install करना है और Pubg India Version आपके फोन मे Download है जाएगा। 

2. Google से करे Download 

आपको Google से Pubg Mobile India डाउनलोड करने के लिए आपको सबसे पहले Google पर जाना होगा और आपको Pubgmobile.in लिखना है जो कि Pubg mobile India की Official वेबसाइट है website पर जाने के बाद आपको वांहा पर नीचे स्क्रॉल करना है और आपको Download Button पर क्लिक करना है। आपका Game download है जाएगा। 

अगर आप एक Iphone user है तो आपको iphone store पर भी Pubg Mobile India सर्च करना है और आपको ये Game मिल जाएगी और दिए गए Install बटन पर क्लिक करके आप Iphone मे गेम को Downlaod कर सकते है। 

वहीं अगर आप Iphone से गूगल पर सर्च करते तो आपको भी Pubgmobile.in पर जाना होगा और Download बटन पर क्लिक करके Pubg Mobile India वर्जन आपके Iphone मे Download होने लगेगा। 

>2 अगस्त को क्या है

>3 अगस्त को क्या है

>हिंदी भाषा का हमारे जीवन में महत्व

PUBG Mobile India ने जारी किए नियम 

कंपनी ने साफ तौर पर कह दिया है कि 18 से कम उम्र के लोग गेम नहीं खेल पाएंगे और यदि वे खेलना चाहते है तो उन्हें अपने माता – पिता का Mobile No. Company के साथ शेयर करना होगा। नए Game की वापसी पर कंपनी ने यह बड़ा बदलाव किया है इस फैसले के पीछे सबसे बड़ा कारण यह है कि पिछले साल Pung Mobile को इसकी आलोचना हिंसक गेम को लेकर हो रही थी। 

इसके अलावा नई privacy Policy के तहत 18 साल से कम उम्र के बच्चो पर उसके माता – पिता का कंट्रोल रहेगा। माता – पिता के पास इस बात को अधिकार होगा की अपने बच्चो को ये Game खेलने देना चाहते है या नहीं।जल्द ही कंपनी इसका Pre- Regitration भी शुरू करने वाली है। 

तो दोस्तो अब हम उम्मीद करते है कि आप समझ चुके होंगे कि Pubg Mobile India download कैसे करे हमे उम्मीद है यह Article आपके लिए मददगार रहा होगा और अगर आपको इस Article से कुछ मदत मिलती है तो इसे शेयर जरुर करे ताकि हमें भी मोटीवेशन मिलता रहे इस प्रकार के Article लिखने के लिए। 

1 अगस्त को क्या है

0
1 august ko kya hai

हरेक दिन की कोई ना कोई कहानी अवश्य होती है कुछ हमारे जीवन से होकर गुजर जाति है तो कुछ इतिहास के पन्नो में अपना एक महत्वपूर्ण स्थान बना लेती है इसमें कुछ दुःखद तो कुछ हमारा सीना गर्व से प्रफुलित हो जाये ऐसी यादे दे जाती है।

हमारे देश भारत मे छः प्रकार की ऋतुयें होती हैं ये हम सभी जानते है और ये भी जानते है।कि एक साल में 12 महीने होते है और इन्ही 12 महीनों में 8 वा जो महीना होता है उसे अगस्त कहते है अगस्त महीने का अपना एक अलग महत्वपूर्ण स्थान है।

तो चलिए जानते है 1 अगस्त के दिन किस – किस महान लोगो ने जन्म लिया एक अगस्त का इतिहास आदि सभी वो महत्वपूर्ण बातें जो हमें जानना चाहिए चलिए जानते है।

1 अगस्त को क्या है

1 अगस्त को कैलेंडर में हम 8 वे महीने के रूप में गिना जाता है जिसे ग्रेगोरी कैलेंडर ओर जूलियन कैलेंडर के रूप में जाना जाता है। यह उन सात महीनों में से एक है जिनके अंदर दिनों की संख्या 31 होती है 1 अगस्त ग्रोगोरी कैलेंडर के अनुसार वर्ष का 213 वा दिन व साल में अभी और 152 दिन बाकी है।

1 अगस्त की महत्वपूर्ण घटनाएं और इतिहास

1 अगस्त के दिन भारत के साथ ही पुरे विश्व में ही बहुत सी ऐसी घटनाये घटित हुई है जिनका इतिहास के पन्नो में एक महत्वपूर्ण स्थान बन चूका है कुछ अच्छी तो कुछ दुखद परन्तु इतिहास के पन्नो में घटित इन घटनाओ ने हमारे ज्ञान की बागडोर को इतने अच्छे से संभाल रखा है की हम आज भी उन ऐतिहासिक घटनाओ को जान सकते है तो चलिए इन्ही कई घटनाओ में से कुछ महत्वपूर्ण घटनाओ के बारे में जानते है। 

1 अगस्त 1920 असहयोग आंदोलन अंग्रेजो के बढ़ते ज्यातियो के खिलाफ महात्मा गांधी जी ने 1920 में असहयोग आंदोलन की शुरुआत करी थी। 

1 अगस्त 1914 प्रथम विश्व युद्ध की शुरुआत हुई थी। 

1 अगस्त 1916 भारतीय राष्टीय कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष एनीबेसेन्ट ने होमरूल लीग की शुरुआत करी थी।

1 अगस्त 1883 ग्रेट ब्रिटेन में अंतराष्टीय डाकटिकट की शुरुआत हुई है।

1 अगस्त 1769  में नए लन्दन ब्रिज को यातायात के लिए खोल दिया था।

1 अगस्त 1957 को नेशनल बुक  ट्रस्ट की स्थापना की गयी थी।

1 अगस्त 1975 दुर्बा बनर्जी एक वाणिज्यिक यात्री विमान का संचालन करने वाली विशव की पहली पेशेवर महिला पायलेट बनी।

1 अगस्त 1995 हब्बल दूरबीन ने शनि ग्रह पे एक और चंद्रमा की खोज की थी।

1 अगस्त 2004 को श्री लंका ने भारत को हराकर क्रिकेट का एशिया कप जीता था।

1 अगस्त 2006 जापान ने भूकंप पूर्व चेतावनी देने की शुरुआत करी थी।

1 अगस्त वियतनाम के हिरोशिमा शहर में आयोजित अंतराष्ट्रीय गणित ओलंपियाड में भारतीय दल के लोगो ने रजत पदक जीता था।

1 अगस्त 2000 ईरान में महिलाएं भी इमाम बनी।

1 अगस्त 2004 श्रीलंका ने प्रेमदासा स्टेडियम में आयोजित फाइनल मैच में भारत को 25 रनो से हराकर एशिया कप जीत लिया।सनत जयसूर्या मैंन आफ द सीरीज बने।

1 अगस्त 2005 सऊदी अरब के बादशाह फ़हद बिन अब्दुल का निधन हुआ और उसके पाश्चात उनके भाई शाहजादा अब्दुल्ला बिन अब्दुल अजीज को देश का नया शासक नियुक्त किया गया।

1 अगस्त 2007 वियतनाम के हनोई शहर में आयोजित गणित ओलंपियाड (आईं. एम.ओ) में भारतीय दल के छः सदस्यों ने तीन रजत पदक जीते।

1 अगस्त 2008 अंतराष्ट्रीय परमाणु एजेंसी (आईएईए)के बोर्ड ने भारत के विशेष निगरानी समझौते को हरी झंडी दिखाई गई।

अगस्त माह के महत्वपूर्ण दिवस 

जिसे हमारे देश और पूरे विशव में मनाया जाता है राष्टीय पर्वतीय पर्वतारोहण दिवस

1 अगस्त राष्ट्रीय पर्वतीय पर्वतारोहण दिवस जो हर साल मनाया जाता है।ये दिवस बॉबी मैथ्यूज और उनके साथी जोश मेडिगन के सम्मान में मनाया जाता है उन्होंने न्यूयॉर्क राज्य के एडिरोंडैक पर्वत की 46 उच्च चोटियों पर सफलता पूर्वक चढ़ाई करि थी।

यार्कशायर को बढ़ावा देने के लिए 1 अगस्त 1975 को यार्कशायर दिवस मनाया जाता है।1974 में यार्कशायर रिडिंग्स सोसायटी द्वारा बर्व्रली के खिलाफ एक विरोध के रूप में पुनः संगठित किया मेडेन की लड़ाई ओर गुलामो की मुक्ति के में बिट्रिश सरकार ने 1834 में जिसके लिए ए यार्कशायर एमपी विलियम विलबरफोर्स अभियान चलाया था।

विश्व स्तनपान दिवस पहले सप्ताह से यानी 1 अगस्त से 7 अगस्त तक मनाया जाता है।ईस दिवस का मुख्य उद्देश्य महिलाओं में स्तनपान के लिए जाग्रत करना है।ये एक प्रकृतिक क्रिया है।जिसके करने से बच्चा स्वस्थ रहता है।औऱ उसके लिए अतिमहत्वपूर्ण भी है।परंतु आज कल की महिलाएं अपने को मेंटेन करने और सुंदर दिखने के फलस्वरूप अपने बच्चे को स्तनपान कराने से कतराने लगी है।फलस्वरूप इस दिन की शुरुआत हुई ताकि सभी महिलाओं को इस औऱ जाग्रत किया जाए।

1 अगस्त के दिन जन्म लेने वाले व्यक्ति 

दिन आते है।और चले जाते है पर इन्ही दिनों में कोई ना कोई जन्म लेता है।परंतु इन्ही दिनों में कोई ना कोई आम व्यक्ति जीवन में कुछ ऐसा कर गुजरता है।कि उनके जन्मवाले दिन को लोग बड़े ही उत्साह के साथ मनाकर उन्हें याद करते है।तभी तो ऐसे व्यक्ति महान लोगो की गिनती में शुमार हो जाते है।तो चलिए जानते है।कि 1 अगस्त वाले दिन किस – किस महान हस्तियों ने जन्म ले कर अपना अपने देश का नाम पूरे विशव में प्रसिद्ध किया है।सेल्यूट ऐसे महान हस्तियों को ।

कमला नेहरू

जन्म तिथि — 1 अगस्त 1899

जन्म स्थान — दिल्ली

पेशा : असहयोग आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका

हरकोर्ट बटलर

जन्म तिथि — 1 अगस्त 1869

जन्म स्थान — उत्तर प्रदेश

पेशा — उत्तरप्रदेश के प्रथम राज्यपाल

पुरुषोत्तम दास टण्डन

जन्म तिथि — 1 अगस्त,1882

जन्म स्थान — इलाहाबाद उत्तरप्रदेश

पेशा — स्वतंत्रता सेनानी

मीना कुमारी

जन्म तिथि — 1 अगस्त 1933

जन्म स्थान — मिठावाला चॉल बम्बई, बिट्रिश भारत

पेशा — अभिनेत्री,पाश्र्वगायिका, शायरा, कॉस्टयूम डिज़ाइनर

भगवान दादा 

जन्म तिथि — 1 अगस्त 1913

जन्म स्थान — मुम्बई ,महाराष्ट्र

पेशा — सिनेमा

तापसी पन्नू

जन्म तिथि — 1 अगस्त 1987

जन्म स्थान–  नई दिल्ली

पेशा — फ़िल्म अभिनेत्री

मुहम्मद निसार

जन्म तिथि — 1 अगस्त 1910

जन्म स्थान — होशियारपुर पंजाब

पेशा — इंडियन क्रिकेटर्स

फ्रैंक वररेल

जन्म तिथि — 1 अगस्त 1924

जन्म स्थान —  ब्रिजटाउन ,बारबाडोस

पेशा – वेस्टइंडीज क्रिकेटर

1 अगस्त को हुए निधन

1 अगस्त 2018 भीष्म नारायण सिंह का निधन हुआ वह भारतीय राजनीतिज्ञ थे जो असम औऱ मेघालय के राज्यपाल थे।

1 अगस्त 1963 जिंदा रानी सरदार मन्ना सिंह औलख जाट की पुत्री थी।पंजाब के महाराज रणजीत सिंह की पांचवी रानी व उनके सबसे बेटे दलीप सिंह की माँ थी।

1 अगस्त 1920 बाल गंगाधर तिलक ,विद्वान, गणितीय दार्शनिक औऱ भारतीय राष्टवादी नेता थे।

1 अगस्त देवकीनंदन खंनि हिंदी के महान और प्रथम तिलिस्मी लेखक थे।

1 अगस्त 2008 हरकिशन सिंह सुरजीत,भारतीय राजनेता थे।

1 अगस्त 1999 नीरद चन्द्र चौधरी भारत मे जिनका जन्म हुआ था बंग्ला तथा अंग्रेजी लेखक और विद्वान थे।

1 अगस्त 2000 अली सरदार जाफ़री जिन्हें ज्ञानपीठ पुरस्कार प्राप्त हुआ था और एक सम्मानित प्रसिद्ध शायर थे।

1 अगस्त 1591 उर्फी शिराज़ी मुगल दरबार में बादशाह अकबर के प्रसिद्ध कवियों में से एक थे।

1 अगस्त को जन्म लेने वाले व्यक्ति का स्वभाव

हम सभी का स्वभाव बिल्कुल अलग – अलग तो कभी एक समान ही होता है।और ये स्वभाव हम खुद ही नहीं बनाते हमारे लिए बल्कि हमारे जन्म की तारीख के दिन ही से ये तय हो जाता है कि हम किस प्रकार के स्वभाव वाले व्यक्ति होंगे,क्योंकि ये हमारे जन्मदिन की तारीख और मूलांक पर निर्भर करता है इसलिए जन्म के दीन से ही लोग बच्चे की कुंडली तक बना लेते है ताकि उन्हें पता चल सके की उनका बच्चा भविष्य में किस प्रकार का होंगा।तो चलिए जाने 1 अगस्त को जन्म लेने वाले व्यक्ति का स्वभाव किस प्रकार का होता है।

1 अगस्त को जन्म लेने वाले व्यक्ति को अपने जीवन मे एसो आराम की चाहत रहती है।

1 अगस्त को जन्म लेने वाले व्यक्ति निडर प्रकृति के होते है।

1 अगस्त को जन्म लेने वाले व्यक्ति किसी भी तरह के परेशानियों से घबराते नहीँ, बल्कि उससे डटकर लड़ते है।और आत्मविश्वास से परिपूर्ण होते हैं।

1अगस्त को जन्म लेने वाले व्यक्ति में आलस का कोई नामोनिशान नहीं होता,इसलिए जो काम हाथ मे लेते है।उसे पूरा करके ही चेन की सांस लेते है।

1 अगस्त को जन्म लेने वाले व्यक्ति में सकारात्मक ऊर्जा विधमान रहती है।ये कभी भी उम्मीद का दामन नहीँ छोड़ते दृढ़ निश्चय वाले होते है।

इस प्रकार हम समझ ही गए होंगे कि 1 अगस्त कितना महत्वपूर्ण दिन है जिसमे कई महान हस्तियों ने जन्म लिया है इसके साथ इसका इतिहास भी अविश्वसनीय है इससे हमारे सामने यही आता है कि केवल कैलेंडर के अंदर गिने जाने वाले ये दिन ही नहीं अपितु हतिहास के पन्नो में अपनी अमिट छाप छोड़ने वाले होते है ये दिन जो प्रत्येक दिन एक महत्वपूर्ण यादों के साथ ही इतिहास बन जाते है।

ना केवल इतिहास में ही बल्कि बल्कि प्रत्येक दिन ही कुछ ना कुछ घटित होता है जैसे अभी कुछ समय पहले ही 1 अगस्त के दीन बकरी ईद का त्योहार मुसलमान धर्म के मानने वाले लोगो ने मनाया साथ ही कोरोना काल के चलते 1 अगस्त के दिन कई महत्वपूर्ण घोषणाएं प्रधानमंत्री जी के द्वारा या मुख्यमंत्री जी के द्वारा की गई वैसे भी किसी दिन को ऐतिहासिक बन जाना ये केवल उस दिन में होने वाली क्रियाएं होती है।इस लिये अपने कान ऒर आँख को हमेशा जाग्रत रखें ताकि आप भी इस इतिहास के महत्वपूर्ण हिस्सो में शामिल हो सकें।क्योंकि प्रत्येक दिन कुछ कहता है।