भारत की जनसँख्या की जानकारी 2021

0
63
bharat ki jansankhya

हमारा देश नित नए प्रगति के रास्ते खोज रहा है ऐसे में इस महान देश की जनसंख्यिकीय परिस्थितियों का आकलन करना भी अनिवार्य हो जाता हैभारत जैसे विशाल भूभाग पर जनसांख्यिकी बहुलता होना स्वाभाविक है 32,87,263 वर्ग किलोमीटर यानी दुनियां के सातवे सबसे बड़े देश जिसकी औसत जनसंख्या वृध्दि दर 17.2 प्रतिशत है की जनगणना करना कोई सरल कार्य नही है।

उसके बाद भी भारत की जनसंख्या का आंकलन किया जाता है वर्तमान समय में 2021 में भारत की 16वीं जनगणना कोरोना महामारी के कारणवश स्थगित है जिस पर अभी केंद्र सरकार की ओर से गाइड लाइन आना अभी बांकी है लेकिन हम आपको जनसंख्या को लेकर जारी कुछ दूसरे आंकड़े दिखाने जा रहे हैं।

भारत की जनसंख्या 2021

कुछ प्रतिष्ठित संगठन जनसंख्या की सटीक जानकारी देते हैं जिनमे कुछ इस प्रकार हैं

(1)World bank
(2)भारतीय जनगणना आयोग
(3)UN द्वारा संचालित Worldometer नाम की वेबसाइट

चुकी भारतीय जनगणना आयोग कोरोना महामारी के कारणवश जनसंख्या से जुड़े सटीक आंकड़े एकत्र नही कर पाई है इसलिए world bank और UN (United Nations) के आंकड़े महत्वपूर्ण हो जाते हैं फिलहाल 1.44 बिलियन के साथ जनसंख्या में चीन नंबर वन पर है और भारत दूसरे नंबर पर जिसकी औसतन जनसंख्या वर्ड बैंक के आंकड़ों के मुताबिक 136.64 करोड़ (लगभग1.36बिलियन) है।

अगर हम यूनाइटेड नेशंस की ओर से जारी आंकड़ों की बात करें तो भारत की जनसंख्या 139.288 करोड़(1.39बिलियन)है इन आंकड़ों से साफ पता चलता है कि भारत कुछ ही वर्षों में जनसंख्या की दृष्टि से चीन को पछाड़ कर पहले स्थान पर आ जाएगा।

इसके साथ ही आपको पता होगा कि 2011 की जनगणना में भारत की जनसंख्या 121.25करोड़(1.21 बिलियन)थी मौजूदा समय में भारत दुनिया की कुल 2.4 प्रतिशत भूमि पर 17 प्रतिशत जनसंख्या का वहन कर रहा है जो एक चिंता का विषय भी है।

भारत की राज्यावार जनसंख्या

चुकी 2021 में राज्यवार जनगणना नही हुई है इसलिए हम 2011 की राज्यवार जनसंख्या सूची के आंकड़े दिखा रहे हैं।

(01) उत्तर प्रदेश 19,95,81,476(कुल जनसंख्या का 16.49%)
(02) महाराष्ट्र 11,23,72,972 (कुल जनसंख्या का 9.28%)
(03) बिहार 10,38,04,637 (8.58%)
(04) पश्चिम बंगाल 9,13,47,736 (7.55%)
(05) मध्य प्रदेश 7,25,97,565 (6.00%)
(06)तमिलनाडु 7,21,38,958 (5.96%)
(07) राजस्थान 6,86,21,012 (5.67%)
(08) कर्नाटक 6,11,30,704 (5.05%)
(09)गुजरात 6,03,83,628(5.00%)
(10)आंध्र प्रदेश 49,386,799 (4.08%)
(11)उड़ीसा 4,19,47,358 (3.47%)
(12)तेलंगाना 3,52,86,757 (2.97%)
(13)केरल 3,33,87,677 (2.76%)
(14)झारखंड 3,29,88,134 (2.72%)
(15)असम 3,11,69,272 (2.58%)
(16)पंजाब 2,77,04,236 (2.30%)
(17)छत्तीसगढ़ 2,55,40,196 (2.11%)
(18)हरियाणा 2,53,53,081 (2.09%)
(19)जम्मू और कश्मीर 1,25,48,926 (1.04%)
(20)उत्तराखण्ड 1,01,16,752 (0.84%)
(21)हिमाचल प्रदेश 68,56,509 (0.57%)
(22)त्रिपुरा 36,71,032 (0.30%)
(23)मेघालय 29,64,007 (0.24%)
(24)मणिपुर 27,21,756 (0.22%)
(25)नागालैण्ड 19,80,602 (0.16%)
(26)गोआ 14,57,723 (0.12%)
(27)अरुणाचल प्रदेश 13,82,611 (0.11%)
(28)मिज़ोरम 10,91,014 (0.09%)
(29)सिक्किम 6,07,688 (0.05%)

NCT दिल्ली 1,67,53,235(1.38%)

(के॰प्र॰ क्षेत्र 1) पुदुच्चेरी 12,44,464 (0.10%)
(के॰प्र॰ क्षेत्र 2) चंडीगढ़ 10,54,686(0.09%)
(के॰प्र॰ क्षेत्र 3) अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह 3,79,944 (0.03%)
(के॰प्र॰ क्षेत्र 4)दादर और नागर हवेली 3,42,855(0.03%)
(के॰प्र॰ क्षेत्र 5) दमन और दीव 2,42,911 (0.02%)
(के॰प्र॰ क्षेत्र 6) लक्षद्वीप 64,429 (0.01%)

सबसे ज्यादा जनसंख्या वाले शहर(2011 जनगणना के अनुसार)

(1)मुंबई 1,24,42,373
(2)दिल्ली 1,10,07,835
(3)बंगलौर 84,36,675
(4)हैदराबाद 68,09,970
(5)अहमदाबाद 55,70,585

>PUBG Mobile इंडिया में डाउनलोड कैसे करे

>Sbi Credit Card बंद कैसे करे जानकारी

>T Series का मालिक कौन है

>2 अगस्त को क्या है

>3 अगस्त को क्या है

जनगणना की शुरुआत

भारत में पहली जनगणना ब्रिटिश शासनकाल में सन 1881 में हुई तब से हर 10 वर्ष में भारत में जनगणना होती है 1881 से अब तक भारत में 15 बार जनगणना हो चुकी है।

1872 में ब्रिटिश वायसराय लॉर्ड मेयो के अधीन पहली बार जनगणना कराई गयी थी परंतु संपूर्ण भारत(ब्रिटिश सरकार के अधीन मौजूदा भारत,पाकिस्तान,बांग्ला देश,श्रीलंका,म्यांमार) की जनगणना 1881 में हुई थी उसके बाद ब्रिटिश सरकार द्वारा यह हर 10 वर्ष में कराई जाने लगी।

आजादी के बाद से यह भारत सरकार के गृह मंत्रालय के अधीन भारत के जनगणना आयुक्त द्वारा कराई जाती है 1951 के बाद की सभी जनगणनाएं 1948 की जनगणना अधिनियम के तहत कराई जाती हैं।

अंतिम जनगणना 2011 में कराई गई थी तथा आगामी जनगणना 2021 में कराई जाने वाली है जो अभी कोरोना महामारी के कारणवश स्थगित है यहां ध्यान देने वाली बात है की आजाद भारत की प्रथम जनगणना 1951 में हुई थी।

जनसंख्या से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य

1- भारतीय जनसंख्या की वार्षिक वृद्धि दर 0.99%है जिसके अनुसार भारत जल्द ही जनसंख्या में चीन को पछाड़ देगा।यह देखा जाना अनिवार्य है की चीन की जनसंख्या वृद्धि दर शून्य है।

2- अधिक जनसंख्या के कारण संसाधनों के नियोजन में दुष्कर परिणाम देखने को मिलते हैं।भोजन से लेकर आवश्यक सामग्रीयों में भारी कमी देखी जा सकती है।जिससे भुखमरी और गरीबी बढ़ती है।

3- भारत एक विकासशील देश है जो प्रगति के रास्ते पर चल रहा है।ऐसे में अत्यधिक जनसंख्या को संभाल पाना मुश्किल है।

4- पिछले दशकों के मुकाबले भारत की वृद्धि दर में काफी कमी देखी गई है।38% की वृद्धि दर अब 17%में आ गई है जिससे पता चलता है कि भारतीय लोगों में जागरूकता आ रही है।

5- UN के आंकड़ों के अनुसार भारत के लोगों की औसत आयु 28 वर्ष है।यह एक चिंताजनक आंकड़ा है।

6- भारत की नवीनतम जनसंख्या आंकड़ों के अनुसार प्रति वर्ग किलोमीटर मे 464 लोगों का जनसंखिकीय घनत्व है।

दूसरे देशों की जनसंख्या संक्षेप में

चीन 144करोड़
पाकिस्तान 21.66करोड़
बंगला देश 16.3करोड़
अफगानिस्तान 3.8करोड़
नेपाल 2.86 करोड़
भूटान 7.63लाख
म्यांमार 5.4करोड़
श्री लंका 2.18 करोड़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here